Tuesday, July 27, 2021

WHO का खुलासा, आज भी दुनिया के 300 करोड़ लोगों के पास नहीं हाथ धोने की सुविधा !

कोरोना वायरस महामारी के दौरान हाथ धोना सबसे ज्यादा जरूरी काम हो गया है। हालांकि अभी भी दुनिया में करोड़ों लोगों के लिए साफ पानी और साबुन से हाथ धोना एक सपने जैसा है। यूनिसेफ और डब्ल्यूएचओ की साझा मॉनिटरिंग रिपोर्ट 2019 के मुताबिक दुनिया में 300 करोड़ लोगों के पास हाथ धोने के लिए संसाधन नहीं है।

यह संख्या दुनिया की जनसंख्या का 40 फीसदी है। कोरोना वायरस के दौरान यह काफी बड़ी संख्या है, जिसके पास हाथ धोने के लिए पर्याप्त साफ पानी और साबुन नहीं है। यूनिसेफ के भारतीय प्रतिनिधि डॉ यसमीन अली हक का कहना है कि जैसे महामारी फैलती जा रही है, यह याद रखना बेहद जरूरी हो गया है कि हाथ धोना अब एक व्यक्तिगत पसंद नहीं बल्कि सामाजिक अनिवार्यता है।

यह भी पढ़ें :   नाइजीरिया में हथियारबंद समूह ने 300 लड़कियों को किया अगवा

कोरोना वायरस और दूसरे इंफेक्शन से खुद को बचाने के लिए इस प्रक्रिया को अपनाया जा सकता है और यह सबसे सस्ती प्रक्रिया है। भारत में पानी से हाथ धोने की सुविधाएं एक बड़ी चिंता है, रिपोर्ट में बताया गया है कि भारत में केवल 60 फीसदी परिवारों के पास ही साबुन के साथ हाथ धोने की सुविधा है।

यह भी पढ़ें :   बलिया गोलीकांड : आरोपियों को पकड़वाने वाले को मिलेंगे 25 हज़ार, पुलिस ने रखा ईनाम

ग्रामीण इलाकों में यह सुविधा ना के बराबर है या फिर बहुत कम है। विश्वव्यापी तौर पर देखा जाए तो पांच में से तीन के पास ही आधारभूत हाथ धोने की सुविधाएं हैं। इससे पहले राष्ट्रीय सैंपल सर्वे 2019 की रिपोर्ट के मुताबिक, खाना खाने से पहले 25.3 फीसदी ग्रामीण परिवार और 56 फीसदी शहरी परिवार साबुन या डिटरजेंट से अपने हाथ धोते हैं।

यह भी पढ़ें :   Humanitarian action award से नवाज़े गए सोनू सूद

जबकि खाना खाने से पहले 2.7 फीसदी लोग राख, मिट्टी या फिर रेत का इस्तेमाल हाथ धोने के लिए करते हैं। बता दें कि 15 अक्तूबर को दुनियाभर में ग्लोबल हैंड वॉशिंग डे मनाया गया था, जिसका लक्ष्य लोगों को समझाना है कि हाथ धोना कितना जरूरी है और सिर्फ हाथ धोने से ही कई बीमारियों को खत्म किया जा सकता है।

Latest news

यह भी पढ़ें :   नाइजीरिया में हथियारबंद समूह ने 300 लड़कियों को किया अगवा

बेरोज़गारी के मुद्दे पर भूपेंद्र सिंह हुड्डा और मुख्यमंत्री मनोहर लाल आमने-सामने

हरियाणा में बेरोजगारी के आंकड़ों पर एक बार फिर पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा और मुख्यमंत्री मनोहर लाल आमने-सामने हैं। हुड्डा ने सेंटर फार...

यूपी, पंजाब और उत्तराखंड सहित कई चुनावी राज्यों में शुरू हो सकता है किसान आंदोलन

पिछले करीब 1 साल से दिल्ली की बॉर्डर पर जारी किसान आंदोलन जल्द ही यूपी, पंजाब और उत्तराखंड सहित कई चुनावी राज्यों में भी...

करगिल विजय के 22 साल पर जानिए क्या बोले पूर्व सेना प्रमुख जनरल वीपी मलिक

करगिल युद्ध के समय भारतीय सेना के प्रमुख रहे जनरल वीपी मलिक ने 22 साल पहले लड़े गए इस युद्ध को याद करते हुए...

पोर्न मूवीज मामले में राज कुंद्रा की गिरफ्तारी के बाद हुआ हैरान कर देने वाला खुलासा, जानिए !

पोर्न मूवीज मामले में राज कुंद्रा की गिरफ्तारी के बाद कुछ संदिग्ध जानकारियां सामने आ रही हैं। मुंबई क्राइम ब्रांच का दावा है कि...

Related news

यह भी पढ़ें :   Humanitarian action award से नवाज़े गए सोनू सूद

बेरोज़गारी के मुद्दे पर भूपेंद्र सिंह हुड्डा और मुख्यमंत्री मनोहर लाल आमने-सामने

हरियाणा में बेरोजगारी के आंकड़ों पर एक बार फिर पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा और मुख्यमंत्री मनोहर लाल आमने-सामने हैं। हुड्डा ने सेंटर फार...

यूपी, पंजाब और उत्तराखंड सहित कई चुनावी राज्यों में शुरू हो सकता है किसान आंदोलन

पिछले करीब 1 साल से दिल्ली की बॉर्डर पर जारी किसान आंदोलन जल्द ही यूपी, पंजाब और उत्तराखंड सहित कई चुनावी राज्यों में भी...

करगिल विजय के 22 साल पर जानिए क्या बोले पूर्व सेना प्रमुख जनरल वीपी मलिक

करगिल युद्ध के समय भारतीय सेना के प्रमुख रहे जनरल वीपी मलिक ने 22 साल पहले लड़े गए इस युद्ध को याद करते हुए...

पोर्न मूवीज मामले में राज कुंद्रा की गिरफ्तारी के बाद हुआ हैरान कर देने वाला खुलासा, जानिए !

पोर्न मूवीज मामले में राज कुंद्रा की गिरफ्तारी के बाद कुछ संदिग्ध जानकारियां सामने आ रही हैं। मुंबई क्राइम ब्रांच का दावा है कि...