Saturday, July 24, 2021

UAPA Case में 22 अक्टूबर तक न्यायिक हिरासत में उमर खालिद

दिल्ली की एक अदालत ने फरवरी में उत्तर-पूर्वी दिल्ली में हुई सांप्रदायिक हिंसा से संबंधित मामले में कठोर आतंकवाद रोधी कानून, गैर-कानूनी गतिविधियां अधिनियम के तहत गिरफ्तार किये गए जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी के पूर्व छात्र नेता उमर खालिद को गुरुवार को 22 अक्टूबर तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया.

पुलिस हिरासत की अवधि पूरी होने के बाद खालिद को वीडियो कांफ्रेंस के जरिये अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश अमिताभ रावत के समक्ष पेश किया गया था. खालिद को 13 सितंबर को गिरफ्तार किया गया था. पुलिस ने उनकी और हिरासत नहीं मांगी. पुलिस ने प्राथमिकी में दावा किया है कि सांप्रदायिक हिंसा ‘पूर्व-नियोजित साजिश’ थी, जिसे कथित रूप से खालिद और दो अन्य लोगों ने अंजाम दिया था. खालिद के खिलाफ राजद्रोह, हत्या, हत्या का प्रयास, धर्म के आधार पर विभिन्न समुदायों के बीच द्वेष पैदा करने और दंगा भड़काने के आरोपों के तहत मामला दर्ज किया गया है.

यह भी पढ़ें :   दिलीप कुमार की बिगड़ी तबीयत, सायरा ने बताया कैसे हैं दिलीप साहब के हाल
यह भी पढ़ें :   किसान आंदोलन के बीच पंजाब के किसानों पर एक नया आरोप, कैप्टन से मांगी गई रिपोर्ट

प्राथमिकी में आरोप लगाया गया है कि खालिद ने कथित रूप से दो अलग-अलग जगहों पर भड़काऊ भाषण दिये और लोगों से अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की यात्रा के दौरान सड़कों पर उतरने और उन्हें जाम करने की अपील की ताकि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर यह दुष्प्रचार किया जा सके कि भारत में अल्पसंख्यकों पर अत्याचार किया जा रहा है. प्राथमिकी के अनुसार इस षड़यंत्र को अंजाम तक पहुंचाने के लिये कई घरों में हथियार, पेट्रोल बम, तेजाब की बोतलें और पत्थर जमा किये गए.

यह भी पढ़ें :   खाने के शौकीनों के लुए सजा दिल्ली-6 फूड फेस्टिवल

पुलिस का आरोप है कि सह-आरोपी दानिश को कथित रूप से दो अलग-अलग जगहों पर लोगों को जमा करने और दंगा भड़काने की जिम्मेदारी दी गई थी. प्राथमिकी में कहा गया है कि 23 फरवरी को महिलाओं और बच्चों को जाफराबाद मेट्रो स्टेशन के नीचे सड़क बंद करने के लिये कहा गया ताकि आसपास रह रहे लोगों के बीच तनाव उत्पन्न किया जा सके.

Latest news

Video Viral : हरियाणा के खेतों में अचानक 10 फीट ऊपर उठ गई जमीन!

हरियाणा में विचित्र घटनाक्रम देखने को मिला। इस घटनाक्रम की वीडियो वायरल हो रही है। दूर-दूर तक इसकी चर्चा है। अचानक जमीन उठने की...
यह भी पढ़ें :   रिया को मिलेगी बेल या जेल? 29 सितंबर को फैसला

किसानी प्रदर्शन का उद्योगों पर असर, CM के आदेश पर अब सख्ती करेगी हरियाणा पुलिस

कृषि कानूनों के विरोध में टीकरी बार्डर पर लंबे समय से चल रहे किसान संगठनों के धरनों से उद्योग और व्यापार चौपट हो गए...

हिसार में किसानों और पुलिस के बीच हुई हिंसा मामले में पुलिस ने कोर्ट में क्लोजर रिपोर्ट की पेश

16 मई को हिसार में किसानों और पुलिस के बीच हुई हिंसा मामले में पुलिस ने कोर्ट में क्लोजर रिपोर्ट पेश कर दी है।...

पेगासस जासूसी मामला : चंडीगढ़ में हरियाणा कांग्रेस ने निकाला रोष मार्च तो पहुंचे थाने

पेगासस जासूसी मामले में हरियाणा कांग्रेस ने विरोध मार्च निकाला। कांग्रेस मुख्यालय से राजभवन की तरफ जा रहे कांग्रेस नेताओं को पुलिस ने सेक्टर...

Related news

यह भी पढ़ें :   अयोध्या के बाद अब मथुरा मंदिर का मामला कोर्ट में, मस्जिद हटाने की मांग

Video Viral : हरियाणा के खेतों में अचानक 10 फीट ऊपर उठ गई जमीन!

हरियाणा में विचित्र घटनाक्रम देखने को मिला। इस घटनाक्रम की वीडियो वायरल हो रही है। दूर-दूर तक इसकी चर्चा है। अचानक जमीन उठने की...

किसानी प्रदर्शन का उद्योगों पर असर, CM के आदेश पर अब सख्ती करेगी हरियाणा पुलिस

कृषि कानूनों के विरोध में टीकरी बार्डर पर लंबे समय से चल रहे किसान संगठनों के धरनों से उद्योग और व्यापार चौपट हो गए...

हिसार में किसानों और पुलिस के बीच हुई हिंसा मामले में पुलिस ने कोर्ट में क्लोजर रिपोर्ट की पेश

16 मई को हिसार में किसानों और पुलिस के बीच हुई हिंसा मामले में पुलिस ने कोर्ट में क्लोजर रिपोर्ट पेश कर दी है।...

पेगासस जासूसी मामला : चंडीगढ़ में हरियाणा कांग्रेस ने निकाला रोष मार्च तो पहुंचे थाने

पेगासस जासूसी मामले में हरियाणा कांग्रेस ने विरोध मार्च निकाला। कांग्रेस मुख्यालय से राजभवन की तरफ जा रहे कांग्रेस नेताओं को पुलिस ने सेक्टर...