Friday, October 22, 2021

पर्यटन नीति-2019 के फायदा लेने के लिए कारोबारियों को देना होगा आवेदन

हिमाचल सरकार ने पर्यटन नीति-2019 में निवेशकों को लुभाने के लिए दी गईं रियायतों का लाभ लेने के लिए आवेदन मांगने की प्रक्रिया शुरू कर दी है। इसके लिए सरकार ने जिला और राज्य स्तर पर दो कमेटियों का गठन किया है। पर्यटन कारोबारियों को रियायतों का लाभ लेने के लिए जिला अधिकारियों के पास आवेदन करना होगा। जिला और राज्य स्तरीय कमेटियां दस्तावेजों की जांच करने के बाद मंजूरी देंगी। राज्य में पर्यटन कारोबार करने वाले हिमाचलियों को स्टांप ड्यूटी और पंजीकरण फीस में 70 फीसदी छूट दी गई है।

टूरिज्म प्रोजेक्ट की डीपीआर बनाने पर आए खर्च का 90 फीसदी भी सरकार निवेशकों को लौटाएगी। हिमाचल से बाहर के निवेशकों को 10 करोड़ तक के निवेश पर स्टांप ड्यूटी और पंजीकरण फीस में 50 फीसदी सब्सिडी देने का फैसला लिया गया है। सरकार ने होटल स्टाफ को दक्ष बनाने के लिए ट्रेनिंग का भी प्रावधान किया है। इसके तहत कर्मियों को छह माह का प्रशिक्षण दिया जाएगा। इसका 50 फीसदी खर्च सरकार करेगी। प्रति यूनिट सरकार एक साल में 50 हजार रुपये का खर्च उठाएगी। प्रशिक्षण से लौटने के छह माह बाद होने वाले थर्ड पार्टी ऑडिट के बाद सरकार 50 फीसदी राशि अदा करेगी।

यह भी पढ़ें :   हरियाणा के मुद्दों पर CM मनोहर की अमित शाह से मुलाकात
यह भी पढ़ें :   दिल्ली में कोरोना के बढ़ते आंकड़ों पर बोले सीएम, कहा- पाबंदियों की जरूरत

पर्यटन इकाइयों के एनर्जी ऑडिट के लिए सरकार 40 से 75 फीसदी तक सब्सिडी देगी। सभी नई पर्यटन इकाइयों में साल में एक इवेंट होगा। नई पर्यटन नीति में इको, जैविक कृषि, स्नो, झील, साहसिक, धार्मिक, सांस्कृतिक एवं धरोहर, स्वास्थ्य एवं वेलनेस तथा फिल्म पर्यटन जैसे महत्वपूर्ण पहलुओं के विकास पर विशेष ध्यान दिया है। थीम पार्क, लाइट एंड साउंड शो, एडवेंचर पार्क निर्माण के लिए अधिकतम तीन करोड़ सब्सिडी मिलेगी। टेंट बनाने के लिए दस फीसदी और अधिकतम 50 लाख सब्सिडी होगी।

यह भी पढ़ें :   कोलंबिया के राष्ट्रपति के हेलीकॉप्टर पर आतंकी हमला, बाल-बाल बचे

जिन क्षेत्रों में सड़कें नहीं हैं, वहां सड़क बनाने को सरकारी जमीन दी जाएगी। सड़क निर्माण को 15 फीसदी ग्रांट या अधिकतम 50 लाख तक की राशि मिलेगी। पानी की सप्लाई पहुंचाने के लिए 15 फीसदी ग्रांट या 50 लाख मिलेंगे। रोपवे के लिए भी निवेशकों को रियायतें मिलेंगी। पर्यटन इकाइयां लगाकर बेहतरीन काम करने वाले उद्यमियों को प्रोत्साहित करने के लिए सरकार ने छह श्रेणियों के तहत एक लाख रुपये का एक्सिलेंस अवार्ड देने का फैसला लिया है। इसके अलावा होटल, टूर आपरेटर, एजेंट, गाइड, एडवेंचर टूर आपरेटर और होम स्टे को मान्यता पुरस्कार मिलेगा।

यह भी पढ़ें :   दिलजीत दोसांझ के बाद अब शशि थरूर के साथ कंगना की ट्विटर वॉर

Latest news

अफगानिस्तान के मौजूदा हालात को लेकर रूस ने बुलाई अहम बैठक, अमेरिका ने आने से किया इंकार

रूस ने अफगानिस्तान के मौजूदा हालात को लेकर एक अहम बैठक बुलाई है। 20 अक्तूबर को होने वाली 'मास्को फार्मेट' वार्ता में भाग लेने के...

जम्मू-कश्मीर : पर्यटन सीजन में सिलेक्टिव कीलिंग ने रोके घाटी में सैलानियों के कदम 

कश्मीर घाटी में टारगेट किलिंग के इनपुट तीन माह पहले से मिल गए थे, लेकिन खुफिया एजेंसियों की इस सूचना पर पुलिस समेत अन्य...

आर्यन खान के मौलिक अधिकारों की रक्षा की मांग लेकर शिवसेना ने किया कोर्ट का रुख

मुंबई क्रूज ड्रग्स पार्टी में गिरफ्तार आर्यन खान के मौलिक अधिकारों की रक्षा की मांग लेकर शिवसेना ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की...

पंजाब में सत्ता परिवर्तन के साथ छलका सुनील जाखड़ का दर्द…

सुनील जाखड़ का पहले प्रधानगी पद गया और अब वे मुख्यमंत्री बनते-बनते रह गए। ऐसे में उनका दर्द छलक उठा, जिसके परिणामस्वरूप सुनील जाखड़...

Related news

यह भी पढ़ें :   NCB की रडार पर बॉलीवुड की ये 7 मशहूर अभिनेत्रियां, भेजा समन

अफगानिस्तान के मौजूदा हालात को लेकर रूस ने बुलाई अहम बैठक, अमेरिका ने आने से किया इंकार

रूस ने अफगानिस्तान के मौजूदा हालात को लेकर एक अहम बैठक बुलाई है। 20 अक्तूबर को होने वाली 'मास्को फार्मेट' वार्ता में भाग लेने के...

जम्मू-कश्मीर : पर्यटन सीजन में सिलेक्टिव कीलिंग ने रोके घाटी में सैलानियों के कदम 

कश्मीर घाटी में टारगेट किलिंग के इनपुट तीन माह पहले से मिल गए थे, लेकिन खुफिया एजेंसियों की इस सूचना पर पुलिस समेत अन्य...

आर्यन खान के मौलिक अधिकारों की रक्षा की मांग लेकर शिवसेना ने किया कोर्ट का रुख

मुंबई क्रूज ड्रग्स पार्टी में गिरफ्तार आर्यन खान के मौलिक अधिकारों की रक्षा की मांग लेकर शिवसेना ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की...

पंजाब में सत्ता परिवर्तन के साथ छलका सुनील जाखड़ का दर्द…

सुनील जाखड़ का पहले प्रधानगी पद गया और अब वे मुख्यमंत्री बनते-बनते रह गए। ऐसे में उनका दर्द छलक उठा, जिसके परिणामस्वरूप सुनील जाखड़...