Friday, October 22, 2021

कई मायनों में अहम अटल टनल की शुरुआत, तीन रास्‍तों की जद में आई चीन की सरहद

चीन के साथ तनावपूर्ण रिश्तों के बीच अटल टनल का शुरू होना कई मायनों में अहम हैं। सेना पूरे साजोसामान के साथ लद्दाख और फिर चीन तक पहुंच सकती है। अब भारत चीन सीमा तक पहुंचने के तीन रास्ते हो गए हैं, जिनके जरिये भारतीय सेना द्रुत गति से अपने कर्तव्य का निर्वहन कर सकेगी।

अटल टनल तीसरा रास्ता है, जिसके जरिये तीव्र गति से किसी भी मौसम में चीन से लगती सीमा तक पहुंचा जा सकता है। अभी तक कारगिल या लेह पहुंचने के दो रास्ते थे। इनमें से एक श्रीनगर से जोजिला दर्रे को पार करते हुए लेह पहुंचने का रास्ता है। यह पारंपरिक रास्ता है। वहीं दूसरे रास्ते के जरिये मनाली से रोहतांग, दारचा, बारालाचा और तंगलांग ला होते हुए लेह तक पहुंचा जा सकता है।

यह भी पढ़ें :   अटल टनल से पहले लेह मार्ग पर बने पुलों का रक्षामंत्री करेंगे उद्घाटन

लद्दाख तक पहुंचने में अभी तक मौसम की चुनौतियां सामने होती थीं। इन चुनौतियों को पछाड़कर देश की सेवा में हर वक्त चौकस रहने वाले सैनिक अपने कर्तव्य का निर्वहन तो करते थे, लेकिन चुनौतियां कड़ी थीं, बड़ी थीं। हालांकि अटल टनल बनने से कारगिल तक पहुंचने में दूरी कम होगी और सेना लद्दाख से सीधे चीन में दाखिल हो सकती है। साथ ही अन्य दो रास्तों पर दबाव कम होगा। यही कारण है कि इस रास्ते के कारण चीन खफा है।

यह भी पढ़ें :   देश के दूसरे राज्यों से सिर्फ दो लोगों ने खरीदी जम्मू-कश्मीर में जमीन, गृह राज्य मंत्री ने दी जानकारी
यह भी पढ़ें :   देश के दूसरे राज्यों से सिर्फ दो लोगों ने खरीदी जम्मू-कश्मीर में जमीन, गृह राज्य मंत्री ने दी जानकारी

अटल टनल से शीत मरुस्थल लाहुल-स्पीति का सेब, आलू, गोभी व हरा मटर अब देश की मंडियों में आसानी से पहुंचेगा। लाहुल के किसान व बागवानों को उत्पाद बेचने की चिंता नहीं सताएगी। कांट्रेक्ट फार्मिंग से भी निजात मिलेगी। फसल बेचने के लिए किसानों को जान जोखिम में नहीं डालनी होगी। नकदी फसलों को और बढ़ावा मिलेगा। रोहतांग दर्रे के कारण लाहुल के किसान अपने उत्पाद घर-द्वार पर बेचने के लिए मजबूर थे। उत्पाद का उचित मूल्य भी नहीं मिल पाता था। ऐसे में यहां के किसान कांट्रेक्ट फार्मिंग को तवज्जो दे रहे थे।

यह भी पढ़ें :   लेह लद्दाख की लाइफ लाइन बनेगी 'अटल टनल'

लाहुल और पांगी घाटी की पांच हजार बीघा जमीन पर पैदा होने वाले लिली के फूल अब दिल्ली में महक बिखेरेंगे। फूलों की खेती करने वाले किसानों के चेहरों पर रौनक आएगी। पहले लाहुल में छह महीने के लिए आवाजाही बंद हो जाती थी, परन्तु अब साल भर आवागमन की सुविधाओं से आर्थिक गतिविधियों का विस्तार होगा।

यह भी पढ़ें :   अटल टनल में अब नियम तोड़ने वालों की खैर नहीं, पर्यटकों के साथ पुलिस पर भी नज़र

Latest news

अफगानिस्तान के मौजूदा हालात को लेकर रूस ने बुलाई अहम बैठक, अमेरिका ने आने से किया इंकार

रूस ने अफगानिस्तान के मौजूदा हालात को लेकर एक अहम बैठक बुलाई है। 20 अक्तूबर को होने वाली 'मास्को फार्मेट' वार्ता में भाग लेने के...

जम्मू-कश्मीर : पर्यटन सीजन में सिलेक्टिव कीलिंग ने रोके घाटी में सैलानियों के कदम 

कश्मीर घाटी में टारगेट किलिंग के इनपुट तीन माह पहले से मिल गए थे, लेकिन खुफिया एजेंसियों की इस सूचना पर पुलिस समेत अन्य...

आर्यन खान के मौलिक अधिकारों की रक्षा की मांग लेकर शिवसेना ने किया कोर्ट का रुख

मुंबई क्रूज ड्रग्स पार्टी में गिरफ्तार आर्यन खान के मौलिक अधिकारों की रक्षा की मांग लेकर शिवसेना ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की...

पंजाब में सत्ता परिवर्तन के साथ छलका सुनील जाखड़ का दर्द…

सुनील जाखड़ का पहले प्रधानगी पद गया और अब वे मुख्यमंत्री बनते-बनते रह गए। ऐसे में उनका दर्द छलक उठा, जिसके परिणामस्वरूप सुनील जाखड़...

Related news

यह भी पढ़ें :   अब हाथरस मामले पर शिवसेना सांसद ने लिया कंगना को आड़े हाथ

अफगानिस्तान के मौजूदा हालात को लेकर रूस ने बुलाई अहम बैठक, अमेरिका ने आने से किया इंकार

रूस ने अफगानिस्तान के मौजूदा हालात को लेकर एक अहम बैठक बुलाई है। 20 अक्तूबर को होने वाली 'मास्को फार्मेट' वार्ता में भाग लेने के...

जम्मू-कश्मीर : पर्यटन सीजन में सिलेक्टिव कीलिंग ने रोके घाटी में सैलानियों के कदम 

कश्मीर घाटी में टारगेट किलिंग के इनपुट तीन माह पहले से मिल गए थे, लेकिन खुफिया एजेंसियों की इस सूचना पर पुलिस समेत अन्य...

आर्यन खान के मौलिक अधिकारों की रक्षा की मांग लेकर शिवसेना ने किया कोर्ट का रुख

मुंबई क्रूज ड्रग्स पार्टी में गिरफ्तार आर्यन खान के मौलिक अधिकारों की रक्षा की मांग लेकर शिवसेना ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की...

पंजाब में सत्ता परिवर्तन के साथ छलका सुनील जाखड़ का दर्द…

सुनील जाखड़ का पहले प्रधानगी पद गया और अब वे मुख्यमंत्री बनते-बनते रह गए। ऐसे में उनका दर्द छलक उठा, जिसके परिणामस्वरूप सुनील जाखड़...