Thursday, December 9, 2021

जम्मू-कश्मीर : पर्यटन सीजन में सिलेक्टिव कीलिंग ने रोके घाटी में सैलानियों के कदम 

कश्मीर घाटी में टारगेट किलिंग के इनपुट तीन माह पहले से मिल गए थे, लेकिन खुफिया एजेंसियों की इस सूचना पर पुलिस समेत अन्य सुरक्षा एजेंसियां समय रहते काम नहीं कर सकीं। अब इसे रोकने के लिए श्रीनगर, पुलवामा और अनंतनाग पर फोकस किया गया है। इन तीन जिलों में हाइब्रिड आतंकियों की तलाश के लिए अभियान तेज किया गया है।

सूत्रों का कहना है कि तीन महीने पहले खुफिया एजेंसियों ने श्रीनगर, पुलवामा और अनंतनाग में टारगेट कीलिंग का इनपुट दिया था। बताया गया था कि आतंकी संगठन कश्मीर में गैर कश्मीरी मजदूरों, कश्मीरी पंडितों और जम्मू के रहने वाले सरकारी कर्मियों को निशाना बना सकते हैं। आतंकियों ने भाजपा, अपनी पार्टी और इससे संबंध रखने वाले लोगों, कश्मीरी में अल्पसंख्यक पंडित, सिख और सरकार के हक में आवाज उठाने वाले लोगों को निशाना बनाने की साजिश रची थी। आतंकी संगठन कश्मीर में हालात सामान्य नहीं होने देने और पंडितों की कश्मीरी वापसी के खिलाफ यह कार्रवाई करना चाहते थे। एकाएक जब टारगेट किलिंग शुरू हो गई तो पुलिस और सीआरपीएफ इस पर पुख्ता कार्रवाई नहीं कर पा रहे हैं।

यह भी पढ़ें :   पीओके पर साजिश! नियंत्रण रेखा पर चक्कां दा बाग से आई आग की चपेट में कई बड़े क्षेत्र

कश्मीर में गैर-कश्मीरियों को आतंकियों द्वारा निशाना बनाए जाने के बाद से पर्यटन सीजन पर खतरा मंडराने लगा है। कोविड की दो लहरों और अन्य परिस्थितियों के कारण पिछले दो साल से जम्मू-कश्मीर में पर्यटन को गति नहीं मिल पाई थी। कोविड अनलॉक के बाद गतिविधियां शुरू हुईं । जुलाई 2021 से पर्यटकों का प्रदेश में आवागमन शुरू हुआ। पर्यटन निदेशालय भी पर्यटकों को लुभाने के लिए आगामी दिनों में कई फेस्टिवल का आयोजन कर रहा है। लेकिन वर्तमान परिदृश्य में पर्यटन सीजन पर संकट के बादल मंडराने लगे हैं। पर्यटन से जुड़े टूर एंड ट्रैवल और होटल व्यवसाय में भी मंदी दिखने लगी है।

यह भी पढ़ें :   IPL : धोनी के पास बतौर कप्तान 200वां मैच खेलने का मौका, ऐसा करने वाले अकेले प्लेयर

गत जून तक कोविड पाबंदियों के कारण जम्मू-कश्मीर में खुलकर पर्यटक नहीं पहुंच पाए थे। लेकिन जुलाई से सितंबर तक पर्यटकों ने रुझान दिखाया। इस वर्ष प्रदेश में जुलाई में 1003087, अगस्त में 1099776 और सितंबर में 12 लाख से अधिक पर्यटक पहुंचे। लेकिन कश्मीर में हो रही सिलेक्टिव कीलिंग से पर्यटकों ने कदम रोक दिए हैं। ऑल जम्मू होटल एंड लगेज एसोसिएशन के प्रधान पवन गुप्ता ने कहा कि सड़क मार्ग से आने वाले पर्यटक जम्मू में रुककर कश्मीर जाते हैं। लेकिन मौजूदा हालात में कश्मीर के साथ जम्मू में भी पर्यटकों द्वारा होटल बुकिंग रद्द की जा रही है। कोविड के कारण दो साल से होटल व्यवसाय पहले ही बुरी तरह से प्रभावित हुआ। इस सीजन होटल व्यवसाय में गति मिलने की उम्मीद लग रही थी। कश्मीर में बने हालात को नियंत्रण करने के लिए सरकार को उचित कदम उठाने चाहिए। इसके साथ जम्मू में पर्यटकों को रोकने के लिए कृत्रिम झील, बागे बाहू स्थित म्यूजिकल फाउंटेन, मुबारमंडी जिर्णोंद्धार आदि लंबित पर्यटन परियोजनाओं को जल्द पूरा करना चाहिए।

यह भी पढ़ें :   श्री कृष्ण की भक्ति के लिए आईजी भारती अरोड़ा ने मांगी स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति

टूर एंड ट्रैवल एसोसिएशन के प्रधान आशुतोष गुप्ता ने कहा कि कश्मीर में मौजूदा हालात का टूर एंड ट्रैवल व्यवसाय पर सीधा असर पड़ा है। कश्मीर के लिए प्रतिदिन जम्मू से करीब 200 से 300 टैंपो ट्रेवल आदि रवाना होते हैं, इसके अलावा 40-45 दूसरे वाहन पर्यटकों को लेकर जा रहे थे। लेकिन सिलेक्टिव कीलिंग के बाद पर्यटकों ने आना बंद कर दिया है। कश्मीर के साथ जम्मू का टूर एंड ट्रैवल व्यवसाय प्रभावित हो रहा है।

यह भी पढ़ें :   FIAF अवॉर्ड पाने वाले पहले भारतीय बने अमिताभ बच्चन
यह भी पढ़ें :   ब्रिटेन जाने वाले भारतीय यात्रियों को अब नहीं रहना होगा होटल में क्वारंटीन, जानें वजह

चैंबर आफ कामर्स एंड इंडस्ट्री जम्मू के प्रधान अरुण गुप्ता का कहना है कि कश्मीर में गैर स्थानीय लोगों की हत्याओं से बड़ी संख्या में बाहरी लोगों का पलायन हो रहा है। कश्मीर में ही करीब पांच लाख श्रमिक काम के सिलसिले में रह रहे हैं। श्रमिकों के पलायन से कश्मीर के साथ जम्मू में भी श्रम शक्ति का अभाव हो जाएगा। इससे निर्माण कार्यों की लागत बढ़ेगी। ऐसी घटनाओं को रोकने को उचित कदम उठाने चाहिए।

Latest news

कल लगेगा 580 सालों बाद साल 2021 का अंतिम और सबसे लम्बा चंद्र ग्रहण

साल 2021 का अंतिम चंद्र ग्रहण देश के कई हिस्सों में शुक्रवार यानी 19 नवंबर को देखा जाएगा। भारत समेत दुनिया के कई देशों...

भारतीय सेना देश की हर एक इंच जमीन की रक्षा करने में सक्षम : राजनाथ सिंह

रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने कहा है कि भारतीय सेना देश की हर एक इंच जमीन की रक्षा करने में सक्षम है। अगर किसी देश...

मंडी की जोई ठाकुर ने मिस हिमालय 2021 का खिताब किया अपने नाम

मंडी जिला से सबंध रखने वाली जोई ठाकुर ने मिस हिमालय 2021 का खिताब अपने नाम कर हिमाचल और मंडी का नाम रोशन किया...
यह भी पढ़ें :   परिसीमन आयोग की बैठक के लिए मिलने पहुंचे अलग-अलग पार्टियोके नेता

प्रदूषण का असर : गुरुग्राम, फरीदाबाद, झज्जर व सोनीपत में अगले आदेश तक स्कूल बंद

हरियाणा के चार जिलों गुरुग्राम, फरीदाबाद, झज्जर व सोनीपत में अगले आदेश तक स्कूल बंद रहेंगे। एनसीआर में बढ़ते प्रदूषण से बचाव के लिए...

Related news

कल लगेगा 580 सालों बाद साल 2021 का अंतिम और सबसे लम्बा चंद्र ग्रहण

साल 2021 का अंतिम चंद्र ग्रहण देश के कई हिस्सों में शुक्रवार यानी 19 नवंबर को देखा जाएगा। भारत समेत दुनिया के कई देशों...

भारतीय सेना देश की हर एक इंच जमीन की रक्षा करने में सक्षम : राजनाथ सिंह

रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने कहा है कि भारतीय सेना देश की हर एक इंच जमीन की रक्षा करने में सक्षम है। अगर किसी देश...

मंडी की जोई ठाकुर ने मिस हिमालय 2021 का खिताब किया अपने नाम

मंडी जिला से सबंध रखने वाली जोई ठाकुर ने मिस हिमालय 2021 का खिताब अपने नाम कर हिमाचल और मंडी का नाम रोशन किया...

प्रदूषण का असर : गुरुग्राम, फरीदाबाद, झज्जर व सोनीपत में अगले आदेश तक स्कूल बंद

हरियाणा के चार जिलों गुरुग्राम, फरीदाबाद, झज्जर व सोनीपत में अगले आदेश तक स्कूल बंद रहेंगे। एनसीआर में बढ़ते प्रदूषण से बचाव के लिए...