Friday, September 17, 2021

कांग्रेस में मतभेद बरकरार, गहलोत के बाद अब खुर्शीद के निशाने पर आये सिब्बल !

बिहार विधानसभा चुनावों में मिली शर्मनाक हार के बाद कांग्रेस में एकबार फिर सत्ता परिवर्तन की मांग उठने लगी है. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल एक इंटरव्यू के दौरान यह बात खुलकर कह चुके हैं. सिब्बल की टिप्पणी के बाद कांग्रेस में गुटबाजी साफ नजर आने लगी है. एक-एक कर तमाम नेता अब सिब्बल के बयान पर पलटवार कर रहे हैं. सोमवार को जहां राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत ने कहा था कि किसी को पार्टी के मसले मीडिया में नहीं ले जाने चाहिए, वहीं अब पूर्व केंद्रीय मंत्री सलमान खुर्शीद ने भी फेसबुक पोस्ट के जरिए सिब्बल के बयान पर निशाना साधा है.

कांग्रेस नेता सलमान खुर्शीद ने अपने फेसबुक पोस्ट की शुरुआत आखिरी मुगल शासक बहादुर शाह जफर की लाइनों के साथ की है. खुर्शीद ने लिखा है, ‘न थी हाल की जब हमें खबर रहे देखते औरों के ऐबो हुनर, पड़ी अपनी बुराइयों पर जो नजर तो निगाह में कोई बुरा न रहा.’ एक तरह से देखें तो बहादुर शाह जफर की इन लाइनों के जरिए खुर्शीद कांग्रेस नेतृत्व की आलोचना करने वाले नेताओं को अपने गिरेबान में झांकने की सलाह दे रहे हैं.

यह भी पढ़ें :   आने वाले 24 घंटे में कहीं बरसेंगे बादल तो कहीं आंधी और तूफ़ान
यह भी पढ़ें :   केंद्र सरकार की नई आर्थिक रिफॉर्म पॉलिसी पर ममता बनर्जी ने मोदी सरकार को घेरा

खुर्शीद अपनी पोस्ट में आगे लिखते हैं कि बहादुर शाह जफर और ऊपर दिए गए उनके शब्द हमारी पार्टी के कई सहयोगियों के लिए एक उपयोगी साथी हो सकते हैं, जो समय-समय पर चिंता का दर्द झेलते हैं. जब हम कुछ बेहतर करते हैं, तो निश्चित रूप से कुछ हद तक वे इसे आसानी से कबूल कर लेते हैं. लेकिन जब हम कमजोर होते हैं, तो वे अपने नाखूनों से कचोटने की जल्दी में होते हैं. ऐसा लगता है कि अब तो भविष्य की निराशा के लिए उनके बहुत कम ही नाखून बचे होंगे.

यह भी पढ़ें :   देश का पहला ऐसा राज्य जहां बत्ती गुल होने पर मुआवज़ा देगा बिजली विभाग

खुर्शीद ने कहा है कि यदि वोटर उन उदारवादी मूल्‍यों को अहमियत नहीं दे रहे जिनका हम संरक्षण कर रहे हैं तो हमें सत्‍ता में आने के लिए शॉर्टकट तलाश करने के बजाय लंबे संघर्ष के लिए तैयार रहना चाहिए. अपने पोस्‍ट में खुर्शीद ने आगे यह भी लिखा है कि सत्‍ता से बाहर किया जाना सार्वजनिक जीवन में आसानी से स्‍वीकार नहीं किया जा सकता लेकिन अगर यह मूल्‍यों की राजनीति का परिणाम है तो इसके सम्‍मान के साथ स्‍वीकार किया जाना चाहिए. अगर हम सत्‍ता हासिल करने के लिए अपने सिद्धांतों के साथ समझौता करते हैं तो इससे अच्‍छा है कि हम ये सब छोड़ दें.

यह भी पढ़ें :   केंद्र सरकार की नई आर्थिक रिफॉर्म पॉलिसी पर ममता बनर्जी ने मोदी सरकार को घेरा
यह भी पढ़ें :   बायो-बबल के नियमों का उल्लंघन श्रीलंका टीम पर पड़ा भारी, मिली करारी शिकस्त

खुर्शीद ने बिना किसी का नाम लिए पोस्ट में आगे लिखा है कि समय-समय पर रणनीति की पुनर्मूल्‍यांकन की जरूरत होती है, लेकिन ऐसा मीडिया तक जाकर नहीं किया जा सकता. बता दें कि बिहार चुनावों में मिली हार के बाद कपिल सिब्बल ने खुलकर पार्टी के शीर्ष नेतृत्व की मुखालफत की थी.

Latest news

पंजाब विधानसभा चुनाव से पहले शिअद और बसपा के बीच 4 सीटों पर हुई अदला-बदली

शिरोमणि अकाली दल और बहुजन समाज पार्टी ने पंजाब विधानसभा 2022 के लिए चार सीटों पर हिस्‍सेदारी में बदलाव किया है। शिअद- बसपा गठबंधन...

आयकर से जुड़े मामले में कैप्टन अमरिंदर सिंह को हाईकोर्ट से बड़ी राहत

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह को आयकर से जुड़े मामले में बड़ी राहत मिली है। पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट ने कैप्‍टन के...

एयर प्यूरीफिकेशन टावर की दुनिया कायल, शुद्ध करेगी चंडीगढ़ की हवा

चंडीगढ़ शहर के ट्रांसपोर्ट चौक पर तैयार किए गए एयर प्यूरीफिकेशन टावर की दुनिया कायल हो गई है। कई शहरों में अब ऐसे ही...

धर्मशाला हिमाचल प्रदेश की दूसरी राजधानी बनेगी या नहीं? महाराष्ट्र सरकार करेगी फैसला !

धर्मशाला हिमाचल प्रदेश की दूसरी राजधानी बनेगी या नहीं, इसका फैसला जयराम सरकार महाराष्ट्र सरकार से मांगी गई जानकारी आने के बाद करेगी। प्रदेश...

Related news

यह भी पढ़ें :   विधानसभा चुनाव से पहले जम्मू-कश्मीर में परिसीमन आयोग का तीन दिवसीय दौरा

पंजाब विधानसभा चुनाव से पहले शिअद और बसपा के बीच 4 सीटों पर हुई अदला-बदली

शिरोमणि अकाली दल और बहुजन समाज पार्टी ने पंजाब विधानसभा 2022 के लिए चार सीटों पर हिस्‍सेदारी में बदलाव किया है। शिअद- बसपा गठबंधन...

आयकर से जुड़े मामले में कैप्टन अमरिंदर सिंह को हाईकोर्ट से बड़ी राहत

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह को आयकर से जुड़े मामले में बड़ी राहत मिली है। पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट ने कैप्‍टन के...

एयर प्यूरीफिकेशन टावर की दुनिया कायल, शुद्ध करेगी चंडीगढ़ की हवा

चंडीगढ़ शहर के ट्रांसपोर्ट चौक पर तैयार किए गए एयर प्यूरीफिकेशन टावर की दुनिया कायल हो गई है। कई शहरों में अब ऐसे ही...

धर्मशाला हिमाचल प्रदेश की दूसरी राजधानी बनेगी या नहीं? महाराष्ट्र सरकार करेगी फैसला !

धर्मशाला हिमाचल प्रदेश की दूसरी राजधानी बनेगी या नहीं, इसका फैसला जयराम सरकार महाराष्ट्र सरकार से मांगी गई जानकारी आने के बाद करेगी। प्रदेश...