Saturday, October 16, 2021

हारकर भी ओलंपिक्स में रवि दहिया ने जीता रजत, कुछ ऐसा रहा मुकाबला

भारतीय पहलवान रवि कुमार दहिया (57 किग्रा भारवर्ग) ने पुरुषों के 57 किग्रा भार वर्ग में रजत पदक जीता है। उन्हें रूसी पहलवान के खिलाफ फाइनल में हार का सामना करना पड़ा। रूस के पहलवान जवुर यूगेव ने गोल्ड मेडल के मैच में 7-4 से हराया। रवि ने भारत की झोली में पांचवां पदक डाल दिया है।

रवि ओलंपिक में रजत पदक जीतने वाले दूसरे भारतीय पहलवान हैं। बता दें कि रवि ओलंपिक के फाइनल में पहुंचने वाले दूसरे भारतीय पहलवान थे। इनसे पहले सुशील कुमार 2012 में फाइनल में पहुंचे थे। लेकिन उन्हें फाइनल में हार का सामना करना पड़ा था। उन्होंने भी रजत पदक जीता था। बता दें कि रवि ओलंपिक में पदक जीतने वाले भारत के पांचवें पहलवान हैं। रवि से पहले भारत की ओर से केडी जाधव, सुशील कुमार, योगेश्वर दत्त और साक्षी मलिक ओलिंपिक में पदक जीत चुके हैं।

यह भी पढ़ें :   भारतीयों की हर्ड इम्युनिटी पर फिर उठे सवाल, स्वास्थ्य मंत्रालय ने चेताया

रवि दहिया ने बुधवार को पुरुषों के 57 किग्रा भार वर्ग के सेमीफाइनल में कजाखस्तान के नूरीस्लाम सानायेव को हराकर फाइनल में अपनी जगह पक्की की थी। वहीं, जवुर ने सेमीफाइनल में इरान के रेजा अत्री को 8-3 से हराकर फाइनल में प्रवेश किया था। जवुर साल 2018 और 2019 विश्व चैंपियनशिप में गोल्ड जीत चुके हैं।

यह भी पढ़ें :   भारत में दुनिया का सबसे खतरनाक कोरोना वेरिएंटः एक्सपर्ट्स

बता दें कि दहिया ने इससे पहले दोनों मुकाबले तकनीकी दक्षता के आधार पर जीते थे। बता दें कि रवि ने अपने ओलंपिक अभियान की मजबूत शुरुआत करते हुए बुधवार को ही बुल्गारिया के जॉर्जी वेलेंटिनोव वेंगेलोव को तकनीकी दक्षता के आधार पर 14-4 से हराकर सेमीफाइनल में जगह बनाई थी। इससे पहले दहिया ने पहले दौर में कोलंबिया के टिगरेरोस उरबानो आस्कर एडवर्डो को 13-2 से हराया था।

यह भी पढ़ें :   भारत में दुनिया का सबसे खतरनाक कोरोना वेरिएंटः एक्सपर्ट्स

रवि कुमार दहिया 2019 में नूर सुल्तान में हुई विश्व चैंपियनशिप में कांस्य पदक जीत चुके हैं। इसके अलावा उन्होंने एशियन चैंपियनशिप में दो गोल्ड मेडल भी अपने नाम किए हैं। उन्होंने 2015 में विश्व जूनियर कुश्ति चैंपियनशिप में रजत पदक जीता था।

Latest news

यह भी पढ़ें :   भारतीयों की हर्ड इम्युनिटी पर फिर उठे सवाल, स्वास्थ्य मंत्रालय ने चेताया

पंजाब में सत्ता परिवर्तन के साथ छलका सुनील जाखड़ का दर्द…

सुनील जाखड़ का पहले प्रधानगी पद गया और अब वे मुख्यमंत्री बनते-बनते रह गए। ऐसे में उनका दर्द छलक उठा, जिसके परिणामस्वरूप सुनील जाखड़...

तख्तापलट के बाद भी पंजाब कांग्रेस में कलह बरकरार, सिद्धू और रंधावा के बीच अनबन

कैप्टन अमरिंदर सिंह के तख्तापलट के बाद भी पंजाब कांग्रेस में कलह थम नहीं रही है। अब प्रदेश प्रधान नवजोत सिद्धू और नए डिप्टी...

पंजाब में मुख्यमंत्री के बदलाव के साथ ही नौकरशाही में बदलाव शुरू

पंजाब के नए मुख्‍यमंत्री चरणजीत सिंह चन्‍नी ने नौकरशाही में बदलाव शुरू कर दिए हैं। इसके साथ ही कर्मचारियों को अब सुबह नौ बजे...

पंजाब के नए मुख्‍यमंत्री की पहली कैबिनेट मीटिंग, निचले वर्ग को मिले कई तोहफे

पंजाब के नए मुख्‍यमंत्री चरणजीत सिंह की कैबिनेट की पहली बैठक में कई मुद्दों पर चर्चा हुई। बैठक में कोई बड़ा फैसला तो नहीं...

Related news

यह भी पढ़ें :   कांग्रेस बनाएगी सोशल मीडिया वॉरियर्स टीम, राहुल गाँधी की अपील

पंजाब में सत्ता परिवर्तन के साथ छलका सुनील जाखड़ का दर्द…

सुनील जाखड़ का पहले प्रधानगी पद गया और अब वे मुख्यमंत्री बनते-बनते रह गए। ऐसे में उनका दर्द छलक उठा, जिसके परिणामस्वरूप सुनील जाखड़...

तख्तापलट के बाद भी पंजाब कांग्रेस में कलह बरकरार, सिद्धू और रंधावा के बीच अनबन

कैप्टन अमरिंदर सिंह के तख्तापलट के बाद भी पंजाब कांग्रेस में कलह थम नहीं रही है। अब प्रदेश प्रधान नवजोत सिद्धू और नए डिप्टी...

पंजाब में मुख्यमंत्री के बदलाव के साथ ही नौकरशाही में बदलाव शुरू

पंजाब के नए मुख्‍यमंत्री चरणजीत सिंह चन्‍नी ने नौकरशाही में बदलाव शुरू कर दिए हैं। इसके साथ ही कर्मचारियों को अब सुबह नौ बजे...

पंजाब के नए मुख्‍यमंत्री की पहली कैबिनेट मीटिंग, निचले वर्ग को मिले कई तोहफे

पंजाब के नए मुख्‍यमंत्री चरणजीत सिंह की कैबिनेट की पहली बैठक में कई मुद्दों पर चर्चा हुई। बैठक में कोई बड़ा फैसला तो नहीं...