Saturday, October 16, 2021

एक बार फिर शुरू हुआ कैप्टन बनाम सिद्धू, एक ब्यान के बाद कार्रवाई की मांग

नवजोत सिंह सिद्धू के एडवाइजरों के द्वारा कश्मीर को भारत से अलग बताने और पाकिस्तान के समर्थन में दिए गए बयानों को लेकर पंजाब सीएम ऑफिस की तरफ से एक प्रेस नोट जारी किया गया है. जिसमें कैप्टन खेमे के कैबिनेट मंत्री ब्रह्म मोहिंद्रा, विजय इंदर सिंगला, भारत भूषण आशू, बलबीर सिद्दू, साधु सिंह धर्मसोत और पंजाब सरकार के प्रवक्ता राजकुमार वेरका ने नवजोत सिंह सिद्धू के एडवाइजरों के द्वारा एंटी-नेशनल और पाकिस्तान के समर्थन में किए गए कमेंट्स को लेकर उनके खिलाफ लीगल कार्रवाई की मांग की है.

यह भी पढ़ें :   रंगीन होंगी पूरे हिमाचल प्रदेश की दीवारें, लाखों खर्च करके मनाया जायेगा 50वीं वर्षगांठ का जश्न

इसके अलावा उन्होंने कांग्रेस हाईकमान से मांग की है कि वो सिद्धू से कहें कि वो पार्टी और राष्ट्रहित में अपने एडवाइजर मालविंदर सिंह माली और प्यारे लाल गर्ग से अलग हो जाएं. पंजाब कांग्रेस के नेताओं ने दिवंगत प्रधान मंत्री इंदिरा गांधी का एक विवादास्पद और अत्यधिक आपत्तिजनक स्केच पोस्ट करने के लिए माली की भी निंदा की, इसे उनके पार्टी विरोधी रुख का एक और उदाहरण बताया.

यह भी पढ़ें :   कृषि कानून को लेकर केजरीवाल ने उठाये कैप्टन पर गंभीर सवाल

वहीं पंजाब कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू ने पंजाब प्रदेश कांग्रेस कमेटी के कार्यालय में पार्टी के लोगों से मुलाक़ात की. उन्होंने मुलाक़ात के बारे में जानकारी देते हुए ट्वीट किया कि त्रिपत बाजवा जी का फोन आया जिसमें उन्होंने आपात बैठक बुलाने के लिए कहा, पीपीसीसी कार्यालय में अन्य साथियों के साथ उनसे मुलाकात की. उन्होंने आगे लिखा कि आलाकमान को स्थिति से अवगत कराएंगे.

यह भी पढ़ें :   पंजाब में बिजली बनी मुद्दा, 5 फीसदी से शुरू हुई इलेक्ट्रिसिटी ड्यूटी 18 फीसदी तक पहुंची

इससे पहले बीजेपी नेता विनीत जोशी ने भी माली के बयान की आलोचना की और माली के खिलाफ एक्शन की मांग की. उन्होंने कहा कि इससे पता चलता है कि ये लोग पंजाब को किस ओर ले जा रहे हैं. कई लोगों ने कश्मीर के लिए शहादत दी है. उनका यह बयान शहीदों के परिवार का अपमान है.

सिद्धू की ओर से माली के ट्वीट को लेकर कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है. वहीं सरकार के प्रवक्ता और सीएम अमरिंदर के करीबी राजकुमार वरका ने माली को नफरत ना फैलाने की सलाह दी और कहा कि मुझे लगता है कि कश्मीर का मुद्दा संवेदनशील है. किसी को भी ऐसे कमेंट से बचना चाहिए. मैंने जानता हूं कि उन्होंने ऐसा बयान किस संदर्भ में दिया है लेकिन उन्हें मर्यादा का ध्यान रखना चाहिए.

यह भी पढ़ें :   हिमाचल में सोलर एनर्जी प्लांट को मिल रहा समर्थन, कम होगी बिजली बिल की मार

Latest news

पंजाब में सत्ता परिवर्तन के साथ छलका सुनील जाखड़ का दर्द…

सुनील जाखड़ का पहले प्रधानगी पद गया और अब वे मुख्यमंत्री बनते-बनते रह गए। ऐसे में उनका दर्द छलक उठा, जिसके परिणामस्वरूप सुनील जाखड़...

तख्तापलट के बाद भी पंजाब कांग्रेस में कलह बरकरार, सिद्धू और रंधावा के बीच अनबन

कैप्टन अमरिंदर सिंह के तख्तापलट के बाद भी पंजाब कांग्रेस में कलह थम नहीं रही है। अब प्रदेश प्रधान नवजोत सिद्धू और नए डिप्टी...

पंजाब में मुख्यमंत्री के बदलाव के साथ ही नौकरशाही में बदलाव शुरू

पंजाब के नए मुख्‍यमंत्री चरणजीत सिंह चन्‍नी ने नौकरशाही में बदलाव शुरू कर दिए हैं। इसके साथ ही कर्मचारियों को अब सुबह नौ बजे...

पंजाब के नए मुख्‍यमंत्री की पहली कैबिनेट मीटिंग, निचले वर्ग को मिले कई तोहफे

पंजाब के नए मुख्‍यमंत्री चरणजीत सिंह की कैबिनेट की पहली बैठक में कई मुद्दों पर चर्चा हुई। बैठक में कोई बड़ा फैसला तो नहीं...

Related news

यह भी पढ़ें :   पंजाब में बिजली बनी मुद्दा, 5 फीसदी से शुरू हुई इलेक्ट्रिसिटी ड्यूटी 18 फीसदी तक पहुंची

पंजाब में सत्ता परिवर्तन के साथ छलका सुनील जाखड़ का दर्द…

सुनील जाखड़ का पहले प्रधानगी पद गया और अब वे मुख्यमंत्री बनते-बनते रह गए। ऐसे में उनका दर्द छलक उठा, जिसके परिणामस्वरूप सुनील जाखड़...

तख्तापलट के बाद भी पंजाब कांग्रेस में कलह बरकरार, सिद्धू और रंधावा के बीच अनबन

कैप्टन अमरिंदर सिंह के तख्तापलट के बाद भी पंजाब कांग्रेस में कलह थम नहीं रही है। अब प्रदेश प्रधान नवजोत सिद्धू और नए डिप्टी...

पंजाब में मुख्यमंत्री के बदलाव के साथ ही नौकरशाही में बदलाव शुरू

पंजाब के नए मुख्‍यमंत्री चरणजीत सिंह चन्‍नी ने नौकरशाही में बदलाव शुरू कर दिए हैं। इसके साथ ही कर्मचारियों को अब सुबह नौ बजे...

पंजाब के नए मुख्‍यमंत्री की पहली कैबिनेट मीटिंग, निचले वर्ग को मिले कई तोहफे

पंजाब के नए मुख्‍यमंत्री चरणजीत सिंह की कैबिनेट की पहली बैठक में कई मुद्दों पर चर्चा हुई। बैठक में कोई बड़ा फैसला तो नहीं...