Thursday, December 9, 2021

भारत के बाद लंदन की सड़कों पर किसानों के समर्थन में प्रदर्शन

नए कृषि कानून को लेकर लंदन में भी विरोध-प्रदर्शन शुरू हो गए हैं. रविवार को हजारों की संख्या में लोग कृषि कानून के खिलाफ लंदन की सड़कों पर उतरे. भारत में किसान आंदोलन जारी है और 8 नवंबर को भारत बंद बुलाया गया है. लंदन में भारतीय दूतावास के बाहर हजारों प्रदर्शनकारियों ने नारे लगाए और कानून वापसी की मांग की.

किसानों को डर है कि इस कानून से नियंत्रित बाजार खत्म हो जाएगा और सरकार गारंटी कीमत पर गेहूं-चावल खरीदना बंद कर देगी. इससे वे प्राइवेट सेक्टर के खरीददारों पर पूरी तरह आश्रित हो जाएंगे. हालांकि, सरकार का कहना है कि इससे किसानों को अपने उत्पादों को बेचने के लिए और भी ज्यादा मौके मिलेंगे.

यह भी पढ़ें :   खेती कानून के विरोध में किसानों का संघर्ष हुआ तेज

इस रैली में करीब 3500-4000 लोगों ने हिस्सा लिया और करीब 700 गाड़ियां थीं. हालांकि, रैली में सिर्फ 40 गाड़ियों को ले जाने की ही अनुमति दी गई थी. इस रैली में खालिस्तानी झंडे भी दिखाई दिए. भारतीय उच्चायोग ने अपने बयान में कहा, भारत में कृषि कानून के खिलाफ हो रहे प्रदर्शन लोकतांत्रिक प्रक्रिया का हिस्सा है. भारत सरकार प्रदर्शनरत किसानों के साथ बातचीत कर रही है. इस बात को दोहराने की जरूरत नहीं है कि ये भारत का आंतरिक मुद्दा है.

यह भी पढ़ें :   सत्ता में आएं तो कूड़ेदान में फेंक देंगे तीनों कृषि कानून : राहुल गांधी
यह भी पढ़ें :   सरयू नदी में बड़ा हादसा, एक ही परिवार के 15 लोग डूब; 5 के मिले शव और बाकियों की तलाश

मेट्रोपोलिटन पुलिस ने रॉयटर्स न्यूज एजेंसी से बताया कि कोरोना की गाइडलाइन का उल्लंघन करने को लेकर 13 लोगों की गिरफ्तारी की गई है. इनमें से 4 लोगों को जुर्माना लगाने के बाद छोड़ दिया गया. पुलिस कमांड पॉल ब्रोजेन ने एक बयान में कहा, राजधानी अभी भी कोरोना की गिरफ्त में है. ये जरूरी है कि हम कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में अपनी भूमिका अदा करें.

ब्रिटेन के कई सांसद पहले ही किसानों के आंदोलन का समर्थन कर चुके हैं. लंदन में हुई किसान रैली से पहले 36 ब्रिटिश सांसदों ने ब्रिटेन के विदेश मंत्री डोमिनिक राब को एक चिठ्ठी भी लिखी थी और भारत सरकार के सामने किसानों के मुद्दे को उठाने की मांग की थी.

यह भी पढ़ें :   पाकिस्तान क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान ने की इस भारतीय खिलाड़ी की तारीफ

Latest news

कल लगेगा 580 सालों बाद साल 2021 का अंतिम और सबसे लम्बा चंद्र ग्रहण

साल 2021 का अंतिम चंद्र ग्रहण देश के कई हिस्सों में शुक्रवार यानी 19 नवंबर को देखा जाएगा। भारत समेत दुनिया के कई देशों...

भारतीय सेना देश की हर एक इंच जमीन की रक्षा करने में सक्षम : राजनाथ सिंह

रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने कहा है कि भारतीय सेना देश की हर एक इंच जमीन की रक्षा करने में सक्षम है। अगर किसी देश...

मंडी की जोई ठाकुर ने मिस हिमालय 2021 का खिताब किया अपने नाम

मंडी जिला से सबंध रखने वाली जोई ठाकुर ने मिस हिमालय 2021 का खिताब अपने नाम कर हिमाचल और मंडी का नाम रोशन किया...

प्रदूषण का असर : गुरुग्राम, फरीदाबाद, झज्जर व सोनीपत में अगले आदेश तक स्कूल बंद

हरियाणा के चार जिलों गुरुग्राम, फरीदाबाद, झज्जर व सोनीपत में अगले आदेश तक स्कूल बंद रहेंगे। एनसीआर में बढ़ते प्रदूषण से बचाव के लिए...

Related news

यह भी पढ़ें :   गुजरात पालिका पंचायत चुनाव : जीत की बढ़ रही बीजेपी, आम आदमी पार्टी को भी बड़ी बढ़त

कल लगेगा 580 सालों बाद साल 2021 का अंतिम और सबसे लम्बा चंद्र ग्रहण

साल 2021 का अंतिम चंद्र ग्रहण देश के कई हिस्सों में शुक्रवार यानी 19 नवंबर को देखा जाएगा। भारत समेत दुनिया के कई देशों...

भारतीय सेना देश की हर एक इंच जमीन की रक्षा करने में सक्षम : राजनाथ सिंह

रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने कहा है कि भारतीय सेना देश की हर एक इंच जमीन की रक्षा करने में सक्षम है। अगर किसी देश...

मंडी की जोई ठाकुर ने मिस हिमालय 2021 का खिताब किया अपने नाम

मंडी जिला से सबंध रखने वाली जोई ठाकुर ने मिस हिमालय 2021 का खिताब अपने नाम कर हिमाचल और मंडी का नाम रोशन किया...

प्रदूषण का असर : गुरुग्राम, फरीदाबाद, झज्जर व सोनीपत में अगले आदेश तक स्कूल बंद

हरियाणा के चार जिलों गुरुग्राम, फरीदाबाद, झज्जर व सोनीपत में अगले आदेश तक स्कूल बंद रहेंगे। एनसीआर में बढ़ते प्रदूषण से बचाव के लिए...