Tuesday, August 9, 2022

जल्द दूभर हो जायेगा दिल्ली का सांस लेना, गैस चैंबर बन सकती है राजधानी !

कोरोना महामारी के बीच प्रदूषण एक बड़ी समस्या के रूप में दस्तक दे रहा है। लॉकडाउन के बाद प्रदूषण घट गया था। आबोहवा साफ हो गई थी। पिछले कई सालों में ऐसी स्थिति बनी थी। यह भी एक कारण हो सकता है जिससे देश में कोरोना से मृत्यु दर कम रही लेकिन एक बार फिर प्रदूषण बढ़ने लगा है। इस वजह से पहले वाली स्थिति वापस होने लगी है। इसका कारण यह है कि सड़कों पर भारी संख्या में वाहन उतरने लगे हैं। अब पंजाब और हरियाणा में पराली जलाने से प्रदूषण और बढ़ेगा। तापमान जैसे-जैसे नीचे गिरेगा, वैसे-वैसे धुआं व धूलकण वातावरण में बहुत ऊपर जाने के बजाय नीचे एकत्रित होना शुरू करेंगे। इस वजह से गैस चैंबर की स्थिति बन जाती है। ऐसी स्थिति में कोरोना श्वसन रोगियों के लिए काल सरीखा बन सकता है।

यह भी पढ़ें :   हिमाचल में भारी बारिश और बाढ़ से बदले हालात, CM ने रद्द किया अपना लाहौल दौरा

इटली में यह देखा गया कि वहां दक्षिणी क्षेत्र के मुकाबले प्रदूषण प्रभावित उत्तरी क्षेत्र में कोरोना के मामले व मौतें अधिक हुईं। इसी तरह अमेरिका में हार्वर्डं यूनिर्विसटी के अध्ययन में प्रदूषण के स्तर व मौत के आंकड़ों का तुलनात्मक अध्ययन किया गया। इसमें पाया गया कि पीएम-2.5 का स्तर बढ़ने से मृत्यु दर भी बढ़ गई। कोरोना फेफड़े पर ही अटैक करता है। हेफा फिल्टर के माध्यम से हमने दिल्ली में दिखाया था कि प्रदूषित वातावरण में रहने पर फेफड़े काले हो जाते हैं। क्योंकि पीएम-10, पीएम 2.5 सहित अन्य सूक्ष्म कण सांस के जरिये शरीर में पहुंचकर फेफड़े में जमा हो जाते हैं। दीपावली में यदि पटाखे जलेगें तो उसका धुआं कोरोना संक्रमित मरीजों के फेफड़े में जाएगा।

यह भी पढ़ें :   अब, वेब-पोर्टल “cybercrime.punjabpolice.gov.in" के माध्यम से साईबर अपराध और धोखाधड़ी की रिपोर्ट करो: डी.जी.पी. पंजाब वी.के. भावरा
यह भी पढ़ें :   मद्रास हाईकोर्ट ने दक्षिण के सुपर स्टार विजय को दी सख्त हिदायत, रोल्स रॉयस घोस्ट से जुड़ा मामला

इस वजह से कोरोना संक्रमितों की हालत बिगड़ सकती है। वैसे भी प्रदूषण के कारण सांस की बीमारियां तेजी से बढ़ रही हैं। पिछले साल मेडिकल जर्नल लैंसेट में प्रकाशित एक अध्ययन के मुताबिक तीन दशक में सांस की बीमारी सीओपीडी (क्रोनिक ऑब्सट्रक्टिव पल्मोनरी डिजीज) से पीड़ित मरीजों की संख्या देश में करीब दोगुनी हो गई है। अस्थमा के मरीज भी बढ़े हैं। उस रिपोर्ट के मुताबकि सांस की बीमारियों से पीड़ित 32 फीसद मरीज भारत में हैं। देश में करीब 4.2 फीसद लोग सीओपीडी व 2.9 फीसद लोग अस्थमा से पीड़ित हैं। इसका सबसे बड़ा कारण प्रदूषण को माना गया है। प्रदूषण के कारण कम उम्र के लोगों में भी फेफड़े का कैंसर देखा जा रहा है। जो लोग धूमपान नहीं करते वे भी फेफड़े के कैंसर का शिकार हो रहे हैं। हार्ट अटैक व स्ट्रोक का भी एक बड़ा कारण प्रदूषण है। लिहाजा, कोरोना के इस दौर में प्रदूषण बढ़ना स्वास्थ्य के लिहाज से ज्यादा जोखिम भरा साबित हो सकता है। इसलिए प्रदूषण को रोकने के लिए जरूरी है कि सरकार स्थायी कदम उठाए।

यह भी पढ़ें :   भारत के VVIP 'Air India One' का इंतज़ार हुआ खत्म, जानें खासियत

Latest news

गरम ख्यालियों द्वारा 15 अगस्त को केसरी झंडे लगाने के आह्वान पर वड़िंग ने पंजाब में शांतिपूर्ण माहौल बिगड़ने को लेकर दी चेतावनी

पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष अमरिंदर सिंह राजा वड़िंग ने कट्टरपंथी नेतृत्व के एक वर्ग द्वारा राज्य में शांतिपूर्ण माहौल बिगाड़े जाने की कोशिश को लेकर...

मुख्यमंत्री ने नई दिल्ली में नीति आयोग की शासी परिषद की बैठक में भाग लिया

मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने नई दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में आयोजित नीति आयोग की शासी परिषद की बैठक में भाग...

मुख्यमंत्री ने नीति आयोग की मीटिंग में पंजाब की किसानी से जुड़े मसले ज़ोरदार ढंग से उठाये, एम. एस. पी. को कानूनी गारंटी बनाने...

पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान ने आज राज्य की किसानी से जुड़े मसले ज़ोरदार ढंग से उठाते हुए न्यूतनम समर्थन मूल्य (एम.एस.पी.) को कानूनी...

“हैंड फुट माउथ” बीमारी से घबराने की जरूरत नहीं

चंडीगढ़ प्रशासन के निर्देशानुसार “हैंड फुट माउथ” नामक वायरल रोग पाए जाने के उपरांत चंडीगढ़ विद्यालय बंद करने की खबर आई है।
यह भी पढ़ें :   पहले दिन 25 लाख लोगों ने Co Win Portal पर किया रजिस्ट्रेशन, 4 लाख से ज़्यादा को लगा टीका
“हैंड फुट माउथ”...

Related news

गरम ख्यालियों द्वारा 15 अगस्त को केसरी झंडे लगाने के आह्वान पर वड़िंग ने पंजाब में शांतिपूर्ण माहौल बिगड़ने को लेकर दी चेतावनी

पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष अमरिंदर सिंह राजा वड़िंग ने कट्टरपंथी नेतृत्व के एक वर्ग द्वारा राज्य में शांतिपूर्ण माहौल बिगाड़े जाने की कोशिश को लेकर...

मुख्यमंत्री ने नई दिल्ली में नीति आयोग की शासी परिषद की बैठक में भाग लिया

मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने नई दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में आयोजित नीति आयोग की शासी परिषद की बैठक में भाग...

मुख्यमंत्री ने नीति आयोग की मीटिंग में पंजाब की किसानी से जुड़े मसले ज़ोरदार ढंग से उठाये, एम. एस. पी. को कानूनी गारंटी बनाने...

पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान ने आज राज्य की किसानी से जुड़े मसले ज़ोरदार ढंग से उठाते हुए न्यूतनम समर्थन मूल्य (एम.एस.पी.) को कानूनी...

“हैंड फुट माउथ” बीमारी से घबराने की जरूरत नहीं

चंडीगढ़ प्रशासन के निर्देशानुसार “हैंड फुट माउथ” नामक वायरल रोग पाए जाने के उपरांत चंडीगढ़ विद्यालय बंद करने की खबर आई है। “हैंड फुट माउथ”...