Friday, September 17, 2021

हिमाचल में चट्टान किनारे बसे लोगों को पल-पल डरा रहा भूस्खलन

नूरपुर शहर का एक किनारा चट्टानों के साथ बसा हुआ है। चट्टानों के साथ साथ कई मकान व सरकारी दफ्तर सटे हुए हैं। लेकिन पिछले चार दिनों में जिस प्रकार मूसलाधार बारिश के चलते दो बार चट्टानें खिसक कर नेशनल हाइवे पर गिरी है उससे चट्टान किनारे बसने वाले लोग सहमे हुए हैं। नूरपुर के न्याजपुर के साथ साथ ढ़क्की क्षेत्र में कई रिहायशी मकान व दफ्तर चट्टानों के किनारे पर बने हुए हैं जो इस समय खतरे की चपेट में है।

बरसात के दिनों में भूस्खलन होने से यह क्षेत्र संवेदनशील माना जाता है। पिछले कुछ सालों से यहां चट्टानों का मलबा गिरने की कोई घटना नहीं हुई हैं, लेकिन अतीत में यहां भूस्खलन के चलते चट्टानें दरकती रही हैं। लेकिन अब सालों बाद इसी दक्षिणी हिस्से में ढक्की की बजाय न्याजपुर के पास यकायक चट्टानें दरकने से लोग सहम गए हैं। नूरपुर शहर का वार्ड 9 का भी एक हिस्सा भूस्खलन के लिहाज से संवेदनशील हैं और यहां दो साल पहले करीब आधा दर्जन से ज्यादा परिवार अपने आशियाने खो चुके हैं।

यह भी पढ़ें :   वायरल वीडियो के बाद केके अग्रवाल ने लोगों को दी वैक्सीन ज़रूर लगवाने की सलाह
यह भी पढ़ें :   वायरल वीडियो के बाद केके अग्रवाल ने लोगों को दी वैक्सीन ज़रूर लगवाने की सलाह

दूसरी तरफ एनएच 154 पर ढक्की से कोर्ट रोड वाली चट्टान पर करीब आधा दर्जन सरकारी दफ्तर, आवास व शहर के वार्ड तीन की एक चौथाई आबादी बसती हैं। इन सरकारी दफ्तरों में नूरपुर नगर परिषद कार्यालय समेत कुछ रिहायशी मकान नेशनल हाइवे से गुजरते साफ नजर आते हैं। इसके अलावा खंड विकास कार्यालय, एसडीएम व लोनिवि के अधीक्षण अभियंता का सरकारी आवास, पुलिस थाना, राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक स्कूल और नूरपुर के ऐतिहासिक किले में स्थित श्री बृजराज स्वामी मंदिर भी इसी चट्टान पर बना हुआ है।

यह भी पढ़ें :   हिमाचल : कोरोना के डर से अपनों की अस्थियां ले जाने में झिझक रहे लोग

वहीं, ढक्की बस स्टाप से मेन बाजार को जाने वाले रास्ते के ऊपरी हिस्से पर दक्षिणी किनारे पर बने रिहायशी मकान भी खतरे के मुहाने पर खड़े हैं। ढक्की में नेशनल हाईवे के बिल्कुल साथ सटी विशाल चट्टान के दरकने की स्थिति में यह राजमार्ग कभी भी बंद हो सकता हैं। जो अतीत में भूस्खलन के चलते होता भी रहा हैं। मंगलवार को न्याजपुर के पास ऊषा माता मंदिर के रास्ते के नीचे नेशनल हाईवे पर चट्टान दरकने से उक्त क्षेत्र भी अब खतरे की जद में आ गया हैं। यहां बीते पांच दिनों में दो बार चट्टानों का मलबा नेशनल हाईवे पर गिरने से ऊपरी भाग पर बसे लोग भी अब सहमे हुए हैं।

यह भी पढ़ें :   हिमाचल का बेटा कश्मीर में शहीद, नम हुई परिजनों की आंखें

Latest news

पंजाब विधानसभा चुनाव से पहले शिअद और बसपा के बीच 4 सीटों पर हुई अदला-बदली

शिरोमणि अकाली दल और बहुजन समाज पार्टी ने पंजाब विधानसभा 2022 के लिए चार सीटों पर हिस्‍सेदारी में बदलाव किया है। शिअद- बसपा गठबंधन...

आयकर से जुड़े मामले में कैप्टन अमरिंदर सिंह को हाईकोर्ट से बड़ी राहत

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह को आयकर से जुड़े मामले में बड़ी राहत मिली है। पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट ने कैप्‍टन के...

एयर प्यूरीफिकेशन टावर की दुनिया कायल, शुद्ध करेगी चंडीगढ़ की हवा

चंडीगढ़ शहर के ट्रांसपोर्ट चौक पर तैयार किए गए एयर प्यूरीफिकेशन टावर की दुनिया कायल हो गई है। कई शहरों में अब ऐसे ही...

धर्मशाला हिमाचल प्रदेश की दूसरी राजधानी बनेगी या नहीं? महाराष्ट्र सरकार करेगी फैसला !

धर्मशाला हिमाचल प्रदेश की दूसरी राजधानी बनेगी या नहीं, इसका फैसला जयराम सरकार महाराष्ट्र सरकार से मांगी गई जानकारी आने के बाद करेगी। प्रदेश...

Related news

यह भी पढ़ें :   कोरोना के चलते पूरे देश में बढ़ी सख्ती, कई शहरों में नाईट कर्फ्यू के साथ तालाबंदी

पंजाब विधानसभा चुनाव से पहले शिअद और बसपा के बीच 4 सीटों पर हुई अदला-बदली

शिरोमणि अकाली दल और बहुजन समाज पार्टी ने पंजाब विधानसभा 2022 के लिए चार सीटों पर हिस्‍सेदारी में बदलाव किया है। शिअद- बसपा गठबंधन...

आयकर से जुड़े मामले में कैप्टन अमरिंदर सिंह को हाईकोर्ट से बड़ी राहत

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह को आयकर से जुड़े मामले में बड़ी राहत मिली है। पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट ने कैप्‍टन के...

एयर प्यूरीफिकेशन टावर की दुनिया कायल, शुद्ध करेगी चंडीगढ़ की हवा

चंडीगढ़ शहर के ट्रांसपोर्ट चौक पर तैयार किए गए एयर प्यूरीफिकेशन टावर की दुनिया कायल हो गई है। कई शहरों में अब ऐसे ही...

धर्मशाला हिमाचल प्रदेश की दूसरी राजधानी बनेगी या नहीं? महाराष्ट्र सरकार करेगी फैसला !

धर्मशाला हिमाचल प्रदेश की दूसरी राजधानी बनेगी या नहीं, इसका फैसला जयराम सरकार महाराष्ट्र सरकार से मांगी गई जानकारी आने के बाद करेगी। प्रदेश...