भारत के संबंध सुधारने की कोशिश में जुटा नेपाल !

नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली ने बुधवार को कैबिनेट फेरबदल में देश के उपप्रधानमंत्री ईश्वर पोखरेल से रक्षा मंत्रालय का कार्यभार वापस ले लिया है। इस मामले से परिचित लोगों ने बताया कि माना जा रहा है कि यह कदम पड़ोसी देश भारत के साथ संबंधों को पटरी पर लाने की कोशिश के तहत उठाया गया है। बता दें कि पिछले कुछ समय से भारत और नेपाल के संबंधों में खटास आई हुई है।

अब प्रधानमंत्री ओली खुद इस मंत्रालय की जिम्मेदारी संभालेंगे। यह कदम ऐसे समय पर उठाया गया है जब तीन नवंबर को भारतीय सेना के प्रमुख जनरल एमएम नरवणे नेपाल के दौरे पर जाने वाले हैं। पोखरेल को प्रधानमंत्री कार्यालय से जोड़ा गया है। नेपाली मीडिया ने कहा कि इसका मतलब है कि वे बिना किसी पोर्टफोलियो वाले मंत्री बने रहेंगे।

यह भी पढ़ें :   सिद्धू की ताजपोशी में जा रहे 3 कांग्रेसियों की सड़क हादसे में मौत

इस साल मई में जनरल नरवणे ने तिब्बत में कैलाश मानसरोवर जाने वाले तीर्थयात्रियों के लिए लिपुलेख तक बनाई जाने वाली सड़क पर नेपाल की तीखी प्रतिक्रिया में चीन की भूमिका की ओर संकेत किया था। उस समय ईश्वर पोखरेल ने दशकों से भारतीय सेना के अभिन्न अंग गोरखा सैनिकों को भड़काने की कोशिश की थी।

यह भी पढ़ें :   सिद्धू की ताजपोशी में जा रहे 3 कांग्रेसियों की सड़क हादसे में मौत

पोखरेल ने कहा था, ‘जनरल नरवणे की टिप्पणी ने नेपाली गोरखा सेना के जवानों की भावनाओं को आहत किया है, जो भारत की रक्षा के लिए अपने प्राण न्योछावर कर देते हैं।’ उन्होंने यह दावा किया था कि भारतीय सेना में शामिल गोरखा सैनिक जनरल नरवणे की टिप्पणी के बाद अपने वरिष्ठों का सम्मान नहीं करेंगे। इसके अलावा मंत्री ने कई अन्य आपत्तिजनक टिप्पणी भी की थीं।

यह भी पढ़ें :   इंस्टाग्राम के जरिए अपने दूसरे बेटे की पहली झलक दिखा सकते हैं सैफ-करीना

नेपाल पर नजर रखने वाले लोगों का कहना है कि पोखरेल ने हाल ही में हिमालयी देश में जनरल नरवणे की तीन नवंबर को होने वाली यात्रा का विरोध किया था। वे चाहते थे कि दोनों देशों के बीच जारी सीमा विवाद पर बातचीत की पहल भारत की तरफ से की जाए। पोखरेल को प्रधानमंत्री ओली के भरोसेमंद में से एक माना जाता है। वे चीन से चिकित्सा उपकरणों की खरीद को लेकर भ्रष्टाचार के आरोपों का सामना कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें :   कोरोना की तीसरी लहर बन सकती है बड़ी चुनौती, बच्चों पर मंडरा रहा खतरा

Latest news

हिमाचल में चट्टान किनारे बसे लोगों को पल-पल डरा रहा भूस्खलन

नूरपुर शहर का एक किनारा चट्टानों के साथ बसा हुआ है। चट्टानों के साथ साथ कई मकान व सरकारी दफ्तर सटे हुए हैं। लेकिन...

Coronavirus : वैक्सीन की पहली और दूसरी डोज लगाने के बाद भी संक्रमित हो रहे लोग

वैक्सीन की पहली और दूसरी डोज लगाने के बाद भी लोग कोरोना पाजिटिव हो रहे हैं। स्वास्थ्य विभाग की ओर से किए गए अध्ययन...

दुनिया की तीन बेहतरीन, सुरक्षित और सबसे खूबसूरत एक्रो पैराग्लाइडिंग साइट में से एक बनने जा रहा बिलासपुर

दुनिया की तीन बेहतरीन, सुरक्षित और सबसे खूबसूरत एक्रो पैराग्लाइडिंग साइट में से एक बिलासपुर जिले की बंदला धार में बनेगी। विश्व में तुर्की...

हिमाचल प्रदेश में मानसून ने किया 502 करोड़ का नुकसान, अभी और तबाही की आशंका

हिमाचल प्रदेश में मानसून सीजन के दौरान जानमाल का भारी नुकसान हुआ है। 502 करोड़ की चल अचल संपत्ति आपदा के चलते ध्वस्त हो...

Related news

यह भी पढ़ें :   देश में वैक्सीन की कोई कमी नहीं, जुलाई से 1 करोड़ लोगों को रोजाना लगेेगा टीका

हिमाचल में चट्टान किनारे बसे लोगों को पल-पल डरा रहा भूस्खलन

नूरपुर शहर का एक किनारा चट्टानों के साथ बसा हुआ है। चट्टानों के साथ साथ कई मकान व सरकारी दफ्तर सटे हुए हैं। लेकिन...

Coronavirus : वैक्सीन की पहली और दूसरी डोज लगाने के बाद भी संक्रमित हो रहे लोग

वैक्सीन की पहली और दूसरी डोज लगाने के बाद भी लोग कोरोना पाजिटिव हो रहे हैं। स्वास्थ्य विभाग की ओर से किए गए अध्ययन...

दुनिया की तीन बेहतरीन, सुरक्षित और सबसे खूबसूरत एक्रो पैराग्लाइडिंग साइट में से एक बनने जा रहा बिलासपुर

दुनिया की तीन बेहतरीन, सुरक्षित और सबसे खूबसूरत एक्रो पैराग्लाइडिंग साइट में से एक बिलासपुर जिले की बंदला धार में बनेगी। विश्व में तुर्की...

हिमाचल प्रदेश में मानसून ने किया 502 करोड़ का नुकसान, अभी और तबाही की आशंका

हिमाचल प्रदेश में मानसून सीजन के दौरान जानमाल का भारी नुकसान हुआ है। 502 करोड़ की चल अचल संपत्ति आपदा के चलते ध्वस्त हो...