Friday, October 22, 2021

एक बार फिर विवादित बयान देकर सवालों में घिरी महबूबा मुफ़्ती

पीडीपी प्रधान, पूर्व मुख्यमंत्री व पीपुल्स अलायंस फॉर गुपकार डेक्लेरेशन की उपप्रधान महबूबा मुफ्ती ने राष्ट्रीय ध्वज पर विवादित बयान के बाद एक बार फिर भड़काऊ भाषण देते हुए कहा कि जब प्रदेश में युवाओं को नौकरियां ही नहीं मिलेंगी तो वे मजबूर होकर बंदूक उठाएंगे। जम्मू-कश्मीर में स्थानीय युवाओं के लिए नौकिरयों व भूमि के अधिकार छीन लिए गए हैं। ये बात जम्मू के लोगों को भी समझ आ गई है।

जम्मू पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी मुख्यालय में आयोजित संवाददाता सम्मेलन के दौरान महबूबा ने यह बयान देकर आतंकवाद की राह पर चल रहे कश्मीरी युवाओं को बेरोजगारी के साथ जोड़ दिया। उनके इस बयान का यह स्पष्ट मतलब था कि कश्मीर में जो कश्मीरी युवा आतंकवादी बने हैं, वे बेरोजगारी से परेशान थे। यही नहीं उन्होंने इसके माध्यम से केंद्र को यह चेतावनी भी दे डाली कि यदि जम्मू-कश्मीर के युवाओं का हक दूसरे राज्यों के युवाओं को दिया गया तो यह सिलसिला आगे बढ़ेगा।

यह भी पढ़ें :   हरियाणा और दिल्ली के बीच यमुना जल विवाद को लेकर माहौल फिर गर्माया
यह भी पढ़ें :   सोशल मीडिया इन्फ्लुएंसर्स के लिए ASCI ने जारी की नई गाइडलाइन्स

आपको जानकारी हो कि नजरबंदी हटने के बाद कश्मीर में पत्रकारों के समक्ष अपनी बार रूबरू हुई महबूबा मुफ्ती ने यह विवादित बयान दिया था कि जब तक मेरे हाथ में मेरा ध्वज नहीं होगा, तब तक वह कोई दूसरा ध्वज नहीं उठाएंगी। उनके इस बयान के बाद प्रदेश में धरना-प्रदर्शनों का सिलसिला शुरू हो गया था। यही नहीं पीपुल्स अलायंस फॉर गुपकार डेक्लेरेशन के गठन के बाद जब वह संगठन की गतिविधियों को जम्मू में तेज करने के लिए जम्मू पहुंची तो उन्हें बजरंग दल, शिव सेना, इक्कजुट जम्मू समेत कई राजनीतिक व सामाजिक संगठनाें के विरोध का सामना करना पड़ा।

यह भी पढ़ें :   महाकुम्भ के चलते 11 से 14 अप्रैल के बीच हरिद्वार रेलवे स्टेशन पर नहीं रुकेंगी ट्रेनें

अब उनके द्वारा दिए गए इस बयान ने एक बार फिर लोगों में आक्रोश भड़का दिया है। उनका यह बयान सोशल मीडिया पर वायरल होते ही लोगों ने अपनी-अपनी प्रतिक्रियाएं देना शुरू कर दी है। जम्मू-कश्मीर समेत देश के विभिन्न कोनों से महबूबा को इस बयान के लिए कड़ा कोसा जा रहा है।

Latest news

यह भी पढ़ें :   चम्बा खाई में बस गिरने से 9 लोगों की मौत, तीसा मार्ग पर हुआ हादसा

अफगानिस्तान के मौजूदा हालात को लेकर रूस ने बुलाई अहम बैठक, अमेरिका ने आने से किया इंकार

रूस ने अफगानिस्तान के मौजूदा हालात को लेकर एक अहम बैठक बुलाई है। 20 अक्तूबर को होने वाली 'मास्को फार्मेट' वार्ता में भाग लेने के...

जम्मू-कश्मीर : पर्यटन सीजन में सिलेक्टिव कीलिंग ने रोके घाटी में सैलानियों के कदम 

कश्मीर घाटी में टारगेट किलिंग के इनपुट तीन माह पहले से मिल गए थे, लेकिन खुफिया एजेंसियों की इस सूचना पर पुलिस समेत अन्य...

आर्यन खान के मौलिक अधिकारों की रक्षा की मांग लेकर शिवसेना ने किया कोर्ट का रुख

मुंबई क्रूज ड्रग्स पार्टी में गिरफ्तार आर्यन खान के मौलिक अधिकारों की रक्षा की मांग लेकर शिवसेना ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की...

पंजाब में सत्ता परिवर्तन के साथ छलका सुनील जाखड़ का दर्द…

सुनील जाखड़ का पहले प्रधानगी पद गया और अब वे मुख्यमंत्री बनते-बनते रह गए। ऐसे में उनका दर्द छलक उठा, जिसके परिणामस्वरूप सुनील जाखड़...

Related news

यह भी पढ़ें :   कब मिलेगा किसान को पराली का समाधान?

अफगानिस्तान के मौजूदा हालात को लेकर रूस ने बुलाई अहम बैठक, अमेरिका ने आने से किया इंकार

रूस ने अफगानिस्तान के मौजूदा हालात को लेकर एक अहम बैठक बुलाई है। 20 अक्तूबर को होने वाली 'मास्को फार्मेट' वार्ता में भाग लेने के...

जम्मू-कश्मीर : पर्यटन सीजन में सिलेक्टिव कीलिंग ने रोके घाटी में सैलानियों के कदम 

कश्मीर घाटी में टारगेट किलिंग के इनपुट तीन माह पहले से मिल गए थे, लेकिन खुफिया एजेंसियों की इस सूचना पर पुलिस समेत अन्य...

आर्यन खान के मौलिक अधिकारों की रक्षा की मांग लेकर शिवसेना ने किया कोर्ट का रुख

मुंबई क्रूज ड्रग्स पार्टी में गिरफ्तार आर्यन खान के मौलिक अधिकारों की रक्षा की मांग लेकर शिवसेना ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की...

पंजाब में सत्ता परिवर्तन के साथ छलका सुनील जाखड़ का दर्द…

सुनील जाखड़ का पहले प्रधानगी पद गया और अब वे मुख्यमंत्री बनते-बनते रह गए। ऐसे में उनका दर्द छलक उठा, जिसके परिणामस्वरूप सुनील जाखड़...