Saturday, October 16, 2021

IPL 2020 : चेन्नई ने लगाई टूर्नामेंट में हार हैट्रिक, खत्म हुआ ‘धोनी’ का जादू !

दबाव में किसी मैच को जीतना महेन्द्र सिंह धोनी की पहचान थी. आखिरी ओवर में हारी बाजी को जीतना धोनी की फितरत थी. टीम चाहे लाख मुश्किल में हो लोग कहते थे अगर माही है तो जीत की गारंटी है. लेकिन ऐसा लग रहा है कि डेढ़ दशक के बाद ये सारी उम्मीदें अब खत्म हो रही है. 39 साल के माही का जादू अब फीका पड़ रहा है. शुक्रवार को आखिरी ओवर में धोनी के नॉट आउट रहने के बाद भी चेन्नई सुपर किंग्स को सनराइजर्स हैदराबाद के खिलाफ हार का सामना करना पड़ा.

यह भी पढ़ें :   IPL 2020 : आज राजस्थान vs पंजाब की भिड़ंत, जीत के लिए भिड़ंत

विकेट बचा कर रखना और आखिरी के कुछ ओवरों में हमला करना ये सालों से धोनी के लिए जीत का फॉर्मूला रहा है. शुक्रवार को भी ऐसा ही हुआ. छठे और सातवें नंबर पर बैटिंग करने वाले धोनी सनराइजर्स के खिलाफ पांचवें नंबर पर खेलने के लिए आए. लगा कि आज चेन्नई के लिए हार का सिलसिला खत्म हो जाएगा. लक्ष्य भी बहुत बड़ा नहीं 165 रनों का था. धोनी के क्रीज पर आने के वक्त चेन्नई को जीत के लिए हर ओवर में 9.21 की औसत से रनों की दरकार थी. हमेशा की तरह लगा कि अगर धोनी आखिरी ओवर तक टिक गए फिर तो चेन्नई की जीत पक्की है. लेकिन ओवर दर ओवर लक्ष्य दूर खिसकता गया. आखिरी चार ओवर में 78 रन बनाने थे. इसके बाद आखिरी ओवर में जीत के लिए चेन्नई को 28 रनों की जरूरत थी, लेकिन धोनी के रहते हुए भी चेन्नई की टीम ये मैच नहीं जीत सकी.

यह भी पढ़ें :   2 शिकस्त के बाद जानिये किस रणनीति के साथ आज मैदान पर उतरेगी मुंबई इंडियंस
यह भी पढ़ें :   IPL 2020 : आज होगा चेन्नई vs दिल्ली का मुकाबला

मौजूदा आईपीएल में ये दूसरा मौका था ता जब आखिरी ओवर में धोनी के रहते हुए चेन्नई को जीत नहीं मिली. ऐसा राजस्थान रॉयल्स के खिलाफ मैच में भी हुआ था. इस मैच के आखिरी ओवर में धोनी ने तीन छक्के लगाए. लेकिन धोनी का ये हमला तब देखने को मिला जब बाजी चेन्नई के हाथ से निकल चुकी थी. इसके अलावा दिल्ली कैपिटल्स के खिलाफ वो आखिरी ओवर में आउट हो गए थे. आंकड़ों पर नजर डालें तो ये छठी बार है जब आईपीएल में धोनी के नॉट आउट रहते हुए भी चेन्नई को हार का सामना करना पड़ा है.

यह भी पढ़ें :   IPL 2020 : आज दिल्ली vs हैदराबाद के बीच भिड़ंत, पहली जीत की तलाश में सनराइजर्स

Latest news

पंजाब में सत्ता परिवर्तन के साथ छलका सुनील जाखड़ का दर्द…

सुनील जाखड़ का पहले प्रधानगी पद गया और अब वे मुख्यमंत्री बनते-बनते रह गए। ऐसे में उनका दर्द छलक उठा, जिसके परिणामस्वरूप सुनील जाखड़...

तख्तापलट के बाद भी पंजाब कांग्रेस में कलह बरकरार, सिद्धू और रंधावा के बीच अनबन

कैप्टन अमरिंदर सिंह के तख्तापलट के बाद भी पंजाब कांग्रेस में कलह थम नहीं रही है। अब प्रदेश प्रधान नवजोत सिद्धू और नए डिप्टी...

पंजाब में मुख्यमंत्री के बदलाव के साथ ही नौकरशाही में बदलाव शुरू

पंजाब के नए मुख्‍यमंत्री चरणजीत सिंह चन्‍नी ने नौकरशाही में बदलाव शुरू कर दिए हैं। इसके साथ ही कर्मचारियों को अब सुबह नौ बजे...

पंजाब के नए मुख्‍यमंत्री की पहली कैबिनेट मीटिंग, निचले वर्ग को मिले कई तोहफे

पंजाब के नए मुख्‍यमंत्री चरणजीत सिंह की कैबिनेट की पहली बैठक में कई मुद्दों पर चर्चा हुई। बैठक में कोई बड़ा फैसला तो नहीं...

Related news

यह भी पढ़ें :   IPL 2020 : पंजाब और बेंगलुरु आज मुकाबले के लिए होंगे आमने-सामने

पंजाब में सत्ता परिवर्तन के साथ छलका सुनील जाखड़ का दर्द…

सुनील जाखड़ का पहले प्रधानगी पद गया और अब वे मुख्यमंत्री बनते-बनते रह गए। ऐसे में उनका दर्द छलक उठा, जिसके परिणामस्वरूप सुनील जाखड़...

तख्तापलट के बाद भी पंजाब कांग्रेस में कलह बरकरार, सिद्धू और रंधावा के बीच अनबन

कैप्टन अमरिंदर सिंह के तख्तापलट के बाद भी पंजाब कांग्रेस में कलह थम नहीं रही है। अब प्रदेश प्रधान नवजोत सिद्धू और नए डिप्टी...

पंजाब में मुख्यमंत्री के बदलाव के साथ ही नौकरशाही में बदलाव शुरू

पंजाब के नए मुख्‍यमंत्री चरणजीत सिंह चन्‍नी ने नौकरशाही में बदलाव शुरू कर दिए हैं। इसके साथ ही कर्मचारियों को अब सुबह नौ बजे...

पंजाब के नए मुख्‍यमंत्री की पहली कैबिनेट मीटिंग, निचले वर्ग को मिले कई तोहफे

पंजाब के नए मुख्‍यमंत्री चरणजीत सिंह की कैबिनेट की पहली बैठक में कई मुद्दों पर चर्चा हुई। बैठक में कोई बड़ा फैसला तो नहीं...