Wednesday, January 19, 2022

-40 डिग्री में भी चीन को टक्कर देने के लिए तैयार भारतीय जवान, किये ये ख़ास इंतजाम

लद्दाख में इस बार सर्दियों में सेना के लिए विशेष इंतजाम किए गए हैं. लद्दाख में सर्दियों में तापमान शून्य से 40 डिग्री नीचे तक चला जाता है. सर्दियों में यहां रहने वाले जवानों के रहने के लिए विशेष व्यवस्था की गई है.

कड़ाके की ठंड और हड्डी गला देने वाली हवा से मुकाबले के लिए सेना को मॉड्यूलर शेल्टर दिए गए हैं, इन शेल्टरों को तुरंत किसी भी स्थान पर लगाया जा सकता है. चीन के साथ लगी सीमा पर तैनात जवानों को रहने के लिए स्मार्ट कैंप की व्यवस्था की गई है. इन कैंपों को कई साल के रिसर्च के बाद बनाया गया है. इन कैंपों में बिजली सप्लाई, गर्म पानी, हीटिंग की सुविधा समेत अन्य जरूरी चीजों का ख्याल रखा गया है.

यह भी पढ़ें :   गणतंत्र दिवस पर सुरक्षा का कड़ा पहरा, कटड़ा और वैष्णो देवी के भवन की सुरक्षा के लिए CRPF तैनात

एक सूत्र ने बताया कि जिन सैनिकों की फ्रंट लाइन पर तैनाती है, उनके लिए गर्म टेंट की व्यवस्था है, जरूरत के मुताबिक इसे इस्तेमाल किया जा सकता है. फॉरवर्ड पोस्ट पर तैनात सैनिकों के लिए ऐसे टेंट की व्यवस्था की गई है जो सैनिकों को -50 डिग्री तापमान में भी सुरक्षा प्रदान कर सकें.

यह भी पढ़ें :   मद्रास हाईकोर्ट ने दक्षिण के सुपर स्टार विजय को दी सख्त हिदायत, रोल्स रॉयस घोस्ट से जुड़ा मामला

आर्मी पोस्ट पर मौजूद सामानों और उपकरणों को बर्फ से बचाने के लिए भी विशेष शेल्टर की व्यवस्था की गई है. बता दें कि लद्दाख में इस साल मई से ही भारत और चीन के बीच तल्खी बढ़ी हुई है. इस वक्त दोनों ओर लगभग 50 हजार जवानों की तैनाती है. दोनों देशों के बीच आठ राउंड की वार्ता के बाद भी बॉर्डर से सैनिकों की वापसी पर अब तक कोई प्रगति नहीं हुई है.

यह भी पढ़ें :   कई मायनों में अहम अटल टनल की शुरुआत, तीन रास्‍तों की जद में आई चीन की सरहद

बता दें कि लद्दाख में सर्दियों के मौसम में कड़ाके की ठंड पड़ती है, कई स्थानों पर तो बर्फ की चालीस फीट तक परत जम जाती है. अभी लद्दाख में सामान्य दिनों की अपेक्षा चार गुना ज्यादा सैनिकों की तैनाती है. इतनी बड़ी संख्या के लिए लॉजिस्टिक और दूसरी सुविधा मुहैया कराने के लिए पूरी सैन्य मशीनरी को एक्शन में ला दिया गया है.

ठंड के मौसम में लद्दाख में कई क्षेत्र ऐसे हैं जो सड़क से कट जाते हैं, यहां सप्लाई मुश्किल होती है, इन स्थानों में ठंड की जिंदगी न सिर्फ चुनौतीपूर्ण बल्कि मौत से पल-पल सामना करने जैसी होती है.

यह भी पढ़ें :   31 मार्च तक पंजाब में स्कूल बंद, हर शनिवार होगा एक घंटे का मौन

Latest news

कल लगेगा 580 सालों बाद साल 2021 का अंतिम और सबसे लम्बा चंद्र ग्रहण

साल 2021 का अंतिम चंद्र ग्रहण देश के कई हिस्सों में शुक्रवार यानी 19 नवंबर को देखा जाएगा। भारत समेत दुनिया के कई देशों...

भारतीय सेना देश की हर एक इंच जमीन की रक्षा करने में सक्षम : राजनाथ सिंह

रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने कहा है कि भारतीय सेना देश की हर एक इंच जमीन की रक्षा करने में सक्षम है। अगर किसी देश...

मंडी की जोई ठाकुर ने मिस हिमालय 2021 का खिताब किया अपने नाम

मंडी जिला से सबंध रखने वाली जोई ठाकुर ने मिस हिमालय 2021 का खिताब अपने नाम कर हिमाचल और मंडी का नाम रोशन किया...

प्रदूषण का असर : गुरुग्राम, फरीदाबाद, झज्जर व सोनीपत में अगले आदेश तक स्कूल बंद

हरियाणा के चार जिलों गुरुग्राम, फरीदाबाद, झज्जर व सोनीपत में अगले आदेश तक स्कूल बंद रहेंगे। एनसीआर में बढ़ते प्रदूषण से बचाव के लिए...

Related news

यह भी पढ़ें :   तीन साल पुराने मानहानि के मामले में सुखबीर बादल ने किया सरेंडर, मिली जमानत

कल लगेगा 580 सालों बाद साल 2021 का अंतिम और सबसे लम्बा चंद्र ग्रहण

साल 2021 का अंतिम चंद्र ग्रहण देश के कई हिस्सों में शुक्रवार यानी 19 नवंबर को देखा जाएगा। भारत समेत दुनिया के कई देशों...

भारतीय सेना देश की हर एक इंच जमीन की रक्षा करने में सक्षम : राजनाथ सिंह

रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने कहा है कि भारतीय सेना देश की हर एक इंच जमीन की रक्षा करने में सक्षम है। अगर किसी देश...

मंडी की जोई ठाकुर ने मिस हिमालय 2021 का खिताब किया अपने नाम

मंडी जिला से सबंध रखने वाली जोई ठाकुर ने मिस हिमालय 2021 का खिताब अपने नाम कर हिमाचल और मंडी का नाम रोशन किया...

प्रदूषण का असर : गुरुग्राम, फरीदाबाद, झज्जर व सोनीपत में अगले आदेश तक स्कूल बंद

हरियाणा के चार जिलों गुरुग्राम, फरीदाबाद, झज्जर व सोनीपत में अगले आदेश तक स्कूल बंद रहेंगे। एनसीआर में बढ़ते प्रदूषण से बचाव के लिए...