Friday, September 17, 2021

यहां जलती नहीं खुशहाली लाती है पराली, हिमाचल कुछ ऐसे करता है इस्तेमाल

दूसरे राज्यों के मुकाबले बेशक हिमाचल प्रदेश में धान का उत्पादन कम होता है, मगर पराली का इस्तेमाल जिस तरह से यहां होता है वह दूसरे राज्यों के लिए सबक है। छोटे और मंझोले किसान पराली को जलाते नहीं बल्कि पशुचारे, मशरूम उत्पादन और पैकिंग में उपयोग लाते हैं। बड़े किसान इसे प्रदेश के अन्य भागों में पशुपालकों को भिजवा देते हैं। बड़े राज्य अगर इसी तर्ज पर पराली का उपयोग करें तो वायु प्रदूषण कम होगा और पशुचारे की कमी भी पूरी हो जाएगी।

यह भी पढ़ें :   IPL 2021 : दिल्ली-मुंबई समेत इन 6 शहरों में होंगे मैच, जानिए पूरा शेड्यूल

हिमाचल में धान की खेती कांगड़ा, मंडी, ऊना, सिरमौर, सोलन व हमीरपुर जिलों में की जाती है। प्रदेश में करीब 72 हजार हेक्टेयर क्षेत्रफल में खेती होती है। कांगड़ा जिले में 36 हजार हेक्टेयर क्षेत्र में धान की पैदावार होती है। हिमालय जैवसंपदा प्रौद्योगिकी संस्थान पालमपुर में पराली पर व्यापक शोध हुआ है। संस्थान के विज्ञानियों ने पराली से बायोडीजल तैयार किया है। यह तकनीक अभी बहुत महंगी है और इसकी लागत कम करने के लिए विशेषज्ञ शोध कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें :   सबसे ज़्यादा प्रदूषित हुई पंजाब में मोहाली की आबोहवा, सांस लेना भी दूभर
यह भी पढ़ें :   पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू ने नियुक्त किये 4 सलाहकार

पंजाब, हरियाणा सहित अन्य राज्यों में इन दिनों पराली जलाई जा रही है। यह पर्यावरण के लिए घातक है। इसे देखते हुए राज्य सरकारों ने खुले में पराली जलाने पर रोक लगाई है। साथ ही कड़े दंड का प्रावधान भी किया है। सामाजिक संगठन किसानों को जागरूक करने में जुटे हैं कि पराली का कोई और वैकल्पिक प्रयोग लाते हुए इसे जलाने से रोका जाए। मध्यप्रदेश में पराली से प्लेटें बनाकर प्लास्टिक की जगह इसे प्रयोग में करने की सलाह दी जा रही है। हिमाचल में मंझोले और छोटे किसानों के लिए पराली खुशहाली का काम करती है। किसान पशुओं को ठंड से बचाने के लिए उनके नीचे बिछाते हैं। साथ ही इसकी कंपोस्ट खाद भी बनाते हैं। प्रदेश में पशुचारे की समस्या रहती है और इसे पराली दूर कर देती है। दूसरे राज्य हिमाचल का मॉडल अपनाएंगे तो प्रदूषण का खतरा नहीं होगा।

यह भी पढ़ें :   CORONA संकट के बीच पाकिस्तान से आ रही मुसीबत से घुटेगा दिल्ली का दम !

Latest news

पंजाब विधानसभा चुनाव से पहले शिअद और बसपा के बीच 4 सीटों पर हुई अदला-बदली

शिरोमणि अकाली दल और बहुजन समाज पार्टी ने पंजाब विधानसभा 2022 के लिए चार सीटों पर हिस्‍सेदारी में बदलाव किया है। शिअद- बसपा गठबंधन...

आयकर से जुड़े मामले में कैप्टन अमरिंदर सिंह को हाईकोर्ट से बड़ी राहत

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह को आयकर से जुड़े मामले में बड़ी राहत मिली है। पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट ने कैप्‍टन के...

एयर प्यूरीफिकेशन टावर की दुनिया कायल, शुद्ध करेगी चंडीगढ़ की हवा

चंडीगढ़ शहर के ट्रांसपोर्ट चौक पर तैयार किए गए एयर प्यूरीफिकेशन टावर की दुनिया कायल हो गई है। कई शहरों में अब ऐसे ही...

धर्मशाला हिमाचल प्रदेश की दूसरी राजधानी बनेगी या नहीं? महाराष्ट्र सरकार करेगी फैसला !

धर्मशाला हिमाचल प्रदेश की दूसरी राजधानी बनेगी या नहीं, इसका फैसला जयराम सरकार महाराष्ट्र सरकार से मांगी गई जानकारी आने के बाद करेगी। प्रदेश...

Related news

यह भी पढ़ें :   लंबे समय से इंतजार कर रहे रेल यात्रियों के लिए खुशखबरी

पंजाब विधानसभा चुनाव से पहले शिअद और बसपा के बीच 4 सीटों पर हुई अदला-बदली

शिरोमणि अकाली दल और बहुजन समाज पार्टी ने पंजाब विधानसभा 2022 के लिए चार सीटों पर हिस्‍सेदारी में बदलाव किया है। शिअद- बसपा गठबंधन...

आयकर से जुड़े मामले में कैप्टन अमरिंदर सिंह को हाईकोर्ट से बड़ी राहत

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह को आयकर से जुड़े मामले में बड़ी राहत मिली है। पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट ने कैप्‍टन के...

एयर प्यूरीफिकेशन टावर की दुनिया कायल, शुद्ध करेगी चंडीगढ़ की हवा

चंडीगढ़ शहर के ट्रांसपोर्ट चौक पर तैयार किए गए एयर प्यूरीफिकेशन टावर की दुनिया कायल हो गई है। कई शहरों में अब ऐसे ही...

धर्मशाला हिमाचल प्रदेश की दूसरी राजधानी बनेगी या नहीं? महाराष्ट्र सरकार करेगी फैसला !

धर्मशाला हिमाचल प्रदेश की दूसरी राजधानी बनेगी या नहीं, इसका फैसला जयराम सरकार महाराष्ट्र सरकार से मांगी गई जानकारी आने के बाद करेगी। प्रदेश...