Saturday, October 16, 2021

कल से जाम होगा हाईवे, किसान नेताओं के घर के सामने करेंगे किसान प्रदर्शन

सरकार और किसानों के बीच अब तक पांच दौर की वार्ता हो चुकी है। सभी बातचीत बेनतीजा रही है। ऐसे में किसानों ने आंदोलन और तेज करने की धमकी दी है। इससे कल यानी 12 दिसंबर से लोगों की दिक्कत और बढ़ सकती है। वार्ता के लिए फिलहाल कोई अगली तारीख तय नहीं की गई है। सरकार को अपने प्रस्तावों पर किसान संगठनों के जवाब का इंतजार है। सरकार जहां कृषि कानूनों को वापस नहीं लेने की बात कही है, वहीं किसान कृषि कानून को रद्द किए जाने की मांग पर अडिग हैं। ऐसे में किसानों ने आंदोलन को और तेज करने की रूपरेखा भी तय कर ली है। इसके तहत किसानों ने कल से हाईवे बंद करने की घोषणा की है। साथ ही रेलवे ट्रैक बाधित करने की भी घोषणा की गई है, कुछ कंपनियों की फैक्ट्री बाधित करने की भी बात कही गई है। किसान संगठनों और संस्थाओं ने दिल्ली से सटे तमाम बॉर्डर को सील करने की चेतावनी जारी की है।

यह भी पढ़ें :   किसानों को मिला दिल्ली के मुख्यमंत्री का साथ, भारत बंद का समर्थन करेगी AAP
यह भी पढ़ें :   रेल रोको: लाल किला उपद्रव ना हो, सरकार और किसान दोनों बरत रहे विशेष सावधानी

सरकार पर और दबाव बनाने के लिए किसान अब दिल्ली-जयपुर हाईवे और दिल्ली-आगरा बॉर्डर को रोकने की कोशिश करेंगे। किसानों ने घोषणा की है कि 12 दिसंबर से दिल्ली जयपुर हाईवे और दिल्ली आगरा हाईवे को भी जाम किया जाएगा। किसानों ने 12 दिसंबर को देशभर के सभी टोल नाकों को भी टोल फ्री करने का एलान किया है। किसान संगठन हाईवे को जाम कर सरकार पर दबाव बनाना चाहते हैं। यदि देशभर के सभी टोल प्लाजा एक दिन के लिए भी मुक्‍त रहता है या उन पर आवाजाही बंद रहती है तो इससे सरकार को करोड़ों रुपए का नुकसान हो सकता है।

यह भी पढ़ें :   धार्मिक स्थल खोलने की तैयार मेघालय, जानें दर्शन के लिए नए नियम

आगे की रणनीति के तहत किसानों ने 14 दिसंबर से जिला मुख्यालय पर जिलाधिकारी और सरकारी कार्यालयों को घेरने का भी प्लान बनाया है। किसानों की रणनीति का मकसद है कि केंद्र किसानों की तीनों कृषि कानून रद्द करने की मांगों को जल्द मानें।

Latest news

पंजाब में सत्ता परिवर्तन के साथ छलका सुनील जाखड़ का दर्द…

सुनील जाखड़ का पहले प्रधानगी पद गया और अब वे मुख्यमंत्री बनते-बनते रह गए। ऐसे में उनका दर्द छलक उठा, जिसके परिणामस्वरूप सुनील जाखड़...

तख्तापलट के बाद भी पंजाब कांग्रेस में कलह बरकरार, सिद्धू और रंधावा के बीच अनबन

कैप्टन अमरिंदर सिंह के तख्तापलट के बाद भी पंजाब कांग्रेस में कलह थम नहीं रही है। अब प्रदेश प्रधान नवजोत सिद्धू और नए डिप्टी...

पंजाब में मुख्यमंत्री के बदलाव के साथ ही नौकरशाही में बदलाव शुरू

पंजाब के नए मुख्‍यमंत्री चरणजीत सिंह चन्‍नी ने नौकरशाही में बदलाव शुरू कर दिए हैं। इसके साथ ही कर्मचारियों को अब सुबह नौ बजे...

पंजाब के नए मुख्‍यमंत्री की पहली कैबिनेट मीटिंग, निचले वर्ग को मिले कई तोहफे

पंजाब के नए मुख्‍यमंत्री चरणजीत सिंह की कैबिनेट की पहली बैठक में कई मुद्दों पर चर्चा हुई। बैठक में कोई बड़ा फैसला तो नहीं...

Related news

यह भी पढ़ें :   दिल्ली सरकार संशोधन विधेयक पर राज्यसभा में हंगामा, विपक्षी कर रहे जमकर विरोध

पंजाब में सत्ता परिवर्तन के साथ छलका सुनील जाखड़ का दर्द…

सुनील जाखड़ का पहले प्रधानगी पद गया और अब वे मुख्यमंत्री बनते-बनते रह गए। ऐसे में उनका दर्द छलक उठा, जिसके परिणामस्वरूप सुनील जाखड़...

तख्तापलट के बाद भी पंजाब कांग्रेस में कलह बरकरार, सिद्धू और रंधावा के बीच अनबन

कैप्टन अमरिंदर सिंह के तख्तापलट के बाद भी पंजाब कांग्रेस में कलह थम नहीं रही है। अब प्रदेश प्रधान नवजोत सिद्धू और नए डिप्टी...

पंजाब में मुख्यमंत्री के बदलाव के साथ ही नौकरशाही में बदलाव शुरू

पंजाब के नए मुख्‍यमंत्री चरणजीत सिंह चन्‍नी ने नौकरशाही में बदलाव शुरू कर दिए हैं। इसके साथ ही कर्मचारियों को अब सुबह नौ बजे...

पंजाब के नए मुख्‍यमंत्री की पहली कैबिनेट मीटिंग, निचले वर्ग को मिले कई तोहफे

पंजाब के नए मुख्‍यमंत्री चरणजीत सिंह की कैबिनेट की पहली बैठक में कई मुद्दों पर चर्चा हुई। बैठक में कोई बड़ा फैसला तो नहीं...