Saturday, October 16, 2021

किसानों ने 8 दिसंबर को किया भारत बंद का ऐलान, बोले- कोई संशोधन स्वीकार नहीं

केंद्र सरकार के कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का आंदोलन तेज होता जा रहा है. शनिवार को सरकार से पांचवें दौर की बातचीत होने से पहले किसानों ने बड़ा ऐलान किया है. किसान संगठनों ने कल शनिवार को प्रधानमंत्री का पुतला फूंकने की घोषणा की है. साथ ही 8 दिसंबर को भारत बंद का आह्वान किया है. भारतीय किसान यूनियन के महासचिव, एचएस लखोवाल ने कहा कि 5 दिसंबर को देशभर में पीएम मोदी के पुतले जलाए जाएंगे. हमने 8 दिसंबर को भारत बंद का आह्वान किया है.

सिंधु बॉर्डर पर डेरा डाले अखिल भारतीय किसान सभा के महासचिव हन्नान मोल्लाह ने कहा कि केंद्र सरकार का कोई भी संशोधन स्वीकार नहीं किया जाएगा. हन्नान मोल्लाह ने कहा कि इसे सिर्फ पंजाब आंदोलन बोलना सरकार की साजिश है, मगर आज किसानों ने दिखाया कि ये आंदोलन पूरे भारत में हो रहा है और आगे भी होगा. हमने फैसला लिया है कि अगर सरकार कल कोई संशोधन रखेगी तो हम संशोधन स्वीकार नहीं करेंगे.

यह भी पढ़ें :   पिछली बार फाइनल में मिली हार का बदला लेने आज उतरेगी DC vs MI

बता दें कि दिल्ली की सीमाओं पर डटे हुए किसानों को कुल नौ दिन हो गए हैं और इस बीच दो बार केंद्र सरकार के साथ चर्चा हुई है. लेकिन अभी तक कोई ठोस नतीजा नहीं निकल पाया है. किसान कृषि कानून वापस लेने की मांग पर अड़े हैं, MSP को लेकर ठोस भरोसा चाहते हैं. हालांकि, सरकार कानूनों को वापस लेने की बात तो नहीं मान रही है लेकिन किसानों की कुछ ऐसी मांग हैं जिनपर सरकार राजी होती दिख रही है.

यह भी पढ़ें :   भारत बंद पंजाब हरियाणा हुए ठप तो दिल्ली और पश्चिमी यूपी में रहा भारी असर
यह भी पढ़ें :   मास्क का मज़ाक उड़ाने वाले अमेरिकी राष्ट्रपति CORONA POSITIVE

गुरुवार को करीब सात घंटे की चर्चा के दौरान किसानों और सरकार के बीच काफी मुद्दों पर सहमति दिखी और कुछ मुद्दों पर किसान अड़े रहे. किसानों ने लिखित में अपनी आपत्तियां दी थीं, जिसके बाद केंद्र सरकार ने कृषि कानूनों में 8 मुद्दों पर संशोधन हेतु विचार करने का प्रस्ताव रखा, जिसे किसान नेताओं ने ठुकरा दिया.

दरअसल, किसानों का कहना है कि MSP पर अगर सरकार भरोसा दे रही है तो उसे लिखित में कानून में शामिल कर दे. साथ ही मंडी सिस्टम को लेकर डर ये भी है कि अभी आढ़ती किसानों के साथ हर तरह का व्यवहार करते हैं, लेकिन वही संबंध किसी व्यापारी के साथ नहीं हो सकेगा. ऐसे में किसानों की मांग है कि उनकी शंकाओं को दूर किया जाए, कानून में मुद्दों को शामिल किया जाए वरना कानून ही वापस ले लिए जाएं.

यह भी पढ़ें :   ट्रोलर्स से परेशान अंकिता लोखंडे ने दिया जवाब, कहा- मैं भी डिप्रेशन से गुजर चुकी हूं

Latest news

पंजाब में सत्ता परिवर्तन के साथ छलका सुनील जाखड़ का दर्द…

सुनील जाखड़ का पहले प्रधानगी पद गया और अब वे मुख्यमंत्री बनते-बनते रह गए। ऐसे में उनका दर्द छलक उठा, जिसके परिणामस्वरूप सुनील जाखड़...

तख्तापलट के बाद भी पंजाब कांग्रेस में कलह बरकरार, सिद्धू और रंधावा के बीच अनबन

कैप्टन अमरिंदर सिंह के तख्तापलट के बाद भी पंजाब कांग्रेस में कलह थम नहीं रही है। अब प्रदेश प्रधान नवजोत सिद्धू और नए डिप्टी...

पंजाब में मुख्यमंत्री के बदलाव के साथ ही नौकरशाही में बदलाव शुरू

पंजाब के नए मुख्‍यमंत्री चरणजीत सिंह चन्‍नी ने नौकरशाही में बदलाव शुरू कर दिए हैं। इसके साथ ही कर्मचारियों को अब सुबह नौ बजे...

पंजाब के नए मुख्‍यमंत्री की पहली कैबिनेट मीटिंग, निचले वर्ग को मिले कई तोहफे

पंजाब के नए मुख्‍यमंत्री चरणजीत सिंह की कैबिनेट की पहली बैठक में कई मुद्दों पर चर्चा हुई। बैठक में कोई बड़ा फैसला तो नहीं...

Related news

यह भी पढ़ें :   पंजाब में भारत बंद को भरपूर समर्थन, पेट्रोल पंपों पर नहीं मिलेगा तेल

पंजाब में सत्ता परिवर्तन के साथ छलका सुनील जाखड़ का दर्द…

सुनील जाखड़ का पहले प्रधानगी पद गया और अब वे मुख्यमंत्री बनते-बनते रह गए। ऐसे में उनका दर्द छलक उठा, जिसके परिणामस्वरूप सुनील जाखड़...

तख्तापलट के बाद भी पंजाब कांग्रेस में कलह बरकरार, सिद्धू और रंधावा के बीच अनबन

कैप्टन अमरिंदर सिंह के तख्तापलट के बाद भी पंजाब कांग्रेस में कलह थम नहीं रही है। अब प्रदेश प्रधान नवजोत सिद्धू और नए डिप्टी...

पंजाब में मुख्यमंत्री के बदलाव के साथ ही नौकरशाही में बदलाव शुरू

पंजाब के नए मुख्‍यमंत्री चरणजीत सिंह चन्‍नी ने नौकरशाही में बदलाव शुरू कर दिए हैं। इसके साथ ही कर्मचारियों को अब सुबह नौ बजे...

पंजाब के नए मुख्‍यमंत्री की पहली कैबिनेट मीटिंग, निचले वर्ग को मिले कई तोहफे

पंजाब के नए मुख्‍यमंत्री चरणजीत सिंह की कैबिनेट की पहली बैठक में कई मुद्दों पर चर्चा हुई। बैठक में कोई बड़ा फैसला तो नहीं...