Friday, September 17, 2021

हिसार में किसानों और पुलिस के बीच हुई हिंसा मामले में पुलिस ने कोर्ट में क्लोजर रिपोर्ट की पेश

16 मई को हिसार में किसानों और पुलिस के बीच हुई हिंसा मामले में पुलिस ने कोर्ट में क्लोजर रिपोर्ट पेश कर दी है। कोर्ट ने केस क्लोजर रिपोर्ट को मंजूर कर लिया है। शुक्रवार को जिला प्रशासन की तरफ से एपीपी राहुल तंवर ने सीजीएम शिफा की कोर्ट में अर्बन एस्टेट थाना में इंस्पेक्टर वीरेंद्र कुमार की शिकायत पर दर्ज FIR नम्बर 140 के बारे में क्लोजर रिपोर्ट दाखिल की जिसे कोर्ट ने आज ही मंजूर कर लिया।

इस FIR ​​​​​​​में 21 नामजद सहित 350 किसानों के खिलाफ IPC 109, 147, 148, 149, 186, 188, 283, 307, 353, 427 व आपदा प्रबंधन के तहत केस दर्ज था। केस बन्द होने पर जिला किसान कमेटी के मेम्बर विकास सीसर, कुलदीप खरड़, शमशेर नम्बरदार, श्रद्धानन्द राजली, सोमबीर पिलानियां ने कहा कि सरकार ने किसानों को टॉर्चर करने के लिए फर्जी केस दर्ज किया था जिसका किसानों ने पुरजोर विरोध किया। सच सामने आने पर सरकार को ही कदम वापस लेने पड़े, ये किसानों की हिम्मत की जीत है।

यह भी पढ़ें :   कोरोना की वजह से डिप्रेशन का शिकार हो रहे मासूम, बच्चों पर ध्यान देने की ज़रूरत
यह भी पढ़ें :   सुनारिया जेल में बंद राम रहीम की एक बार फिर बिगड़ी तबीयत, PGI में हुआ इलाज

16 मई को मुख्यमंत्री मनोहर लाल हिसार में चौ देवीलाल संजीवनी अस्पताल का शिलान्यास करने के लिए पहुंचे थे। मुख्यमंत्री के निकलने के 2 मिनट बाद ही इस एरिया में सैकड़ों किसान मुख्यमंत्री का विरोध करने लिए इक्कठे हो गए। किसानों और पुलिस के बीच तनाव में मामला हिंसात्मक हो जाता है और पूरे प्रकरण में हुए लाठीचार्ज, पथराव, फायरिंग में 20 पुलिसकर्मी व 30 से ज्यादा किसान घायल हो गए थे। पुलिस ने मौके से ही 16 किसानों को हिरासत में लिया था।

यह भी पढ़ें :   सुनारिया जेल में बंद राम रहीम की एक बार फिर बिगड़ी तबीयत, PGI में हुआ इलाज

देर शाम सैकड़ों किसानों ने आईजी निवास का घेराव कर दिया। किसान कमेटी और प्रशासन के बीच हुई बातचीत के बाद हिरासत में लिए हुए 16 किसानों को रिहा कर दिया गया। किसान नेताओं की तरफ से दावा किया गया कि अधिकारियों ने उनको भरोसा दिया है कि पूरे प्रकरण में कोई केस दर्ज नहीं किया जाएगा। इससे पहले की यह प्रकरण शांत होता पुलिस ने 350 किसानों के खिलाफ हत्या के प्रयास सहित अनेक धाराओं में केस दर्ज कर दिया।

यह भी पढ़ें :   हरियाणाः दिल्ली कूच कर रहे किसानों पर केस

किसानों ने प्रशासन पर वादा खिलाफी का आरोप लगाते हुए हजारों की संख्या में 24 मई को क्रांतिमान पार्क में सम्मेलन किया। सम्मेलन में एसडीएम ने वार्ता का प्रस्ताव रखा जिसके बाद कमिश्नर और डीसी के साथ मीटिंग में समझौता हो गया। प्रशासन ने केस वापसी के लिए एक महीने का समय मांगा था।

यह भी पढ़ें :   हिमाचल प्रदेश के चंबा में भूकंप के झटके, रिक्टर स्केल पर भूकंप की तीव्रता 3.2

Latest news

पंजाब विधानसभा चुनाव से पहले शिअद और बसपा के बीच 4 सीटों पर हुई अदला-बदली

शिरोमणि अकाली दल और बहुजन समाज पार्टी ने पंजाब विधानसभा 2022 के लिए चार सीटों पर हिस्‍सेदारी में बदलाव किया है। शिअद- बसपा गठबंधन...

आयकर से जुड़े मामले में कैप्टन अमरिंदर सिंह को हाईकोर्ट से बड़ी राहत

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह को आयकर से जुड़े मामले में बड़ी राहत मिली है। पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट ने कैप्‍टन के...

एयर प्यूरीफिकेशन टावर की दुनिया कायल, शुद्ध करेगी चंडीगढ़ की हवा

चंडीगढ़ शहर के ट्रांसपोर्ट चौक पर तैयार किए गए एयर प्यूरीफिकेशन टावर की दुनिया कायल हो गई है। कई शहरों में अब ऐसे ही...

धर्मशाला हिमाचल प्रदेश की दूसरी राजधानी बनेगी या नहीं? महाराष्ट्र सरकार करेगी फैसला !

धर्मशाला हिमाचल प्रदेश की दूसरी राजधानी बनेगी या नहीं, इसका फैसला जयराम सरकार महाराष्ट्र सरकार से मांगी गई जानकारी आने के बाद करेगी। प्रदेश...

Related news

यह भी पढ़ें :   हरियाणाः दिल्ली कूच कर रहे किसानों पर केस

पंजाब विधानसभा चुनाव से पहले शिअद और बसपा के बीच 4 सीटों पर हुई अदला-बदली

शिरोमणि अकाली दल और बहुजन समाज पार्टी ने पंजाब विधानसभा 2022 के लिए चार सीटों पर हिस्‍सेदारी में बदलाव किया है। शिअद- बसपा गठबंधन...

आयकर से जुड़े मामले में कैप्टन अमरिंदर सिंह को हाईकोर्ट से बड़ी राहत

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह को आयकर से जुड़े मामले में बड़ी राहत मिली है। पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट ने कैप्‍टन के...

एयर प्यूरीफिकेशन टावर की दुनिया कायल, शुद्ध करेगी चंडीगढ़ की हवा

चंडीगढ़ शहर के ट्रांसपोर्ट चौक पर तैयार किए गए एयर प्यूरीफिकेशन टावर की दुनिया कायल हो गई है। कई शहरों में अब ऐसे ही...

धर्मशाला हिमाचल प्रदेश की दूसरी राजधानी बनेगी या नहीं? महाराष्ट्र सरकार करेगी फैसला !

धर्मशाला हिमाचल प्रदेश की दूसरी राजधानी बनेगी या नहीं, इसका फैसला जयराम सरकार महाराष्ट्र सरकार से मांगी गई जानकारी आने के बाद करेगी। प्रदेश...