Saturday, October 16, 2021

29 दिनों के बाद आखिरकार समाप्त हुआ आर्मेनिया-अजरबैजान के बीच युद्ध

आर्मेनिया और अजरबैजान के बीच 29 दिनों से चल रही जंग आखिरकार समाप्त हो गई है। दोनों देश मानवीय संघर्षविराम के लिए तैयार हो गए हैं। जंग के बाद दोनों देशों के प्रतिनिधियों ने सीजफायर के पालन पर मुहर लगाई है। आधी रात से दोनों देशों के बीच संघर्षविराम प्रभाव में आ गया है।

दोनों देशों के बीच शांति की बहाली अमेरिका की पहल पर हुई है। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने इसका एलान किया है। ट्रंप ने दोनों देशों के राष्ट्र प्रमुखों को संघर्षविराम के लिए बधाई दी है।

यह भी पढ़ें :   ट्रम्प के Corona Positve होते ही अमेरिकी रक्षा मंत्रालय लॉन्च ने किया परमाणु हमले का प्लान

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने ट्वीट किया, आर्मेनिया के प्रधानमंत्री निकोल पाशिन्यान और अजरबैजान के राष्ट्रपति इलहाम अलीयेव को बधाई। दोनों देश सीजफायर के पालन के लिए सहमत हो गए हैं, जो आधी रात से प्रभाव में आ गया है। कई जीवन बच जाएंगे। मुझे मेरी टीम माइक पोम्पियो, स्टीव बेगन और राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद पर इस डील के लिए गर्व है।

यह भी पढ़ें :   10 जुलाई को होगा पूर्व सीएम वीरभद्र सिंह का अंतिम संस्कार, 3 दिन राजकीय शोक घोषित

गौरतलब है कि आर्मेनिया और अजरबैजान के बीच नागोर्नो-काराबाख को लेकर करीब एक महीने से जंग चल रही है। बताया गया है कि इस जंग में अब तक दोनों देशों के पांच हजार लोग मारे जा चुके हैं। दुनियाभर की नजर इस युद्ध पर थी, हालांकि अब युद्धविराम के बाद शांति स्थापित होने के कयास लगाए जा रहे हैं।

यह भी पढ़ें :   सिद्धू ने फिर ट्वीट के जरिये कैप्टन अमरिंदर सिंह और अपने विरोधियों को दिया जवाब

नागोर्नो-काराबाख की सेना ने अजरबैजान की सेना पर उसके इलाके में नागरिकों पर गोलीबारी करने का आरोप लगाया था। इसके जवाब में अरजबैजान के रक्षा मंत्रालय ने कहा कि आर्मेनियाई सेना ने अजरबैजान के टेरटर, अगदम और अघजाबेदी इलाकों में गोलीबारी की। इसके बाद 27 सितंबर को जंग शुरू हुई थी।

इस जंग को रोकने के लिए दो बार रूस की तरफ से मध्यस्थता की कोशिश की जा चुकी है। दोनों बार संघर्षविराम टिक नहीं पाया और युद्ध फिर से शुरू हो गया। ऐसे में अब सबकी निगाहें इस बात पर टिकी हुई हैं कि अमेरिका की ओर से किया गया संघर्षविराम कब तक टिकता है।

यह भी पढ़ें :   पंजाब सरकार ने माफ़ की किसानों का 61.49 करोड़ रुपये की ब्याज राशि

Latest news

पंजाब में सत्ता परिवर्तन के साथ छलका सुनील जाखड़ का दर्द…

सुनील जाखड़ का पहले प्रधानगी पद गया और अब वे मुख्यमंत्री बनते-बनते रह गए। ऐसे में उनका दर्द छलक उठा, जिसके परिणामस्वरूप सुनील जाखड़...

तख्तापलट के बाद भी पंजाब कांग्रेस में कलह बरकरार, सिद्धू और रंधावा के बीच अनबन

कैप्टन अमरिंदर सिंह के तख्तापलट के बाद भी पंजाब कांग्रेस में कलह थम नहीं रही है। अब प्रदेश प्रधान नवजोत सिद्धू और नए डिप्टी...

पंजाब में मुख्यमंत्री के बदलाव के साथ ही नौकरशाही में बदलाव शुरू

पंजाब के नए मुख्‍यमंत्री चरणजीत सिंह चन्‍नी ने नौकरशाही में बदलाव शुरू कर दिए हैं। इसके साथ ही कर्मचारियों को अब सुबह नौ बजे...

पंजाब के नए मुख्‍यमंत्री की पहली कैबिनेट मीटिंग, निचले वर्ग को मिले कई तोहफे

पंजाब के नए मुख्‍यमंत्री चरणजीत सिंह की कैबिनेट की पहली बैठक में कई मुद्दों पर चर्चा हुई। बैठक में कोई बड़ा फैसला तो नहीं...

Related news

यह भी पढ़ें :   पंजाब सरकार ने माफ़ की किसानों का 61.49 करोड़ रुपये की ब्याज राशि

पंजाब में सत्ता परिवर्तन के साथ छलका सुनील जाखड़ का दर्द…

सुनील जाखड़ का पहले प्रधानगी पद गया और अब वे मुख्यमंत्री बनते-बनते रह गए। ऐसे में उनका दर्द छलक उठा, जिसके परिणामस्वरूप सुनील जाखड़...

तख्तापलट के बाद भी पंजाब कांग्रेस में कलह बरकरार, सिद्धू और रंधावा के बीच अनबन

कैप्टन अमरिंदर सिंह के तख्तापलट के बाद भी पंजाब कांग्रेस में कलह थम नहीं रही है। अब प्रदेश प्रधान नवजोत सिद्धू और नए डिप्टी...

पंजाब में मुख्यमंत्री के बदलाव के साथ ही नौकरशाही में बदलाव शुरू

पंजाब के नए मुख्‍यमंत्री चरणजीत सिंह चन्‍नी ने नौकरशाही में बदलाव शुरू कर दिए हैं। इसके साथ ही कर्मचारियों को अब सुबह नौ बजे...

पंजाब के नए मुख्‍यमंत्री की पहली कैबिनेट मीटिंग, निचले वर्ग को मिले कई तोहफे

पंजाब के नए मुख्‍यमंत्री चरणजीत सिंह की कैबिनेट की पहली बैठक में कई मुद्दों पर चर्चा हुई। बैठक में कोई बड़ा फैसला तो नहीं...