सबसे ज़्यादा प्रदूषित हुई पंजाब में मोहाली की आबोहवा, सांस लेना भी दूभर

पंजाब के वीआईपी जिले मोहाली की हवा पिछले पांच साल में इस साल सबसे ज्यादा जहरीली हुई है। इसकी वजह है, मोहाली में सबसे अधिक पराली का जलना। पंजाब प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के आकंड़े बताते हैं कि मोहाली में पिछले पांच साल में सबसे ज्यादा पराली जलाने के मामले सैटेलाइट की पकड़ में आए हैं।

पिछले पांच साल में मोहाली जिला दूसरे और तीसरे पायदान से लुढ़कता हुआ चौथे पायदान पर पहुंच गया है। जिले का डेराबस्सी ब्लॉक पराली जलाने में सबसे आगे है, जबकि खरड़ ब्लॉक दूसरे नंबर पर बना हुआ है। त्योहारों के सीजन में वीआईपी सिटी में वायु प्रदूषण का स्तर खतरनाक बना रहा। यही वो समय था, जब खेतों में त्योहारों के बहाने पराली जलाई जा रही थी। हालांकि पिछले साल में मोहाली राज्य के उन बेहतरीन जिलों में शुमार रहा है, जहां पराली जलाने के कम मामले दर्ज किए जाते रहे हैं। पिछले दो साल से मोहाली में फिर से पराली जलाने का रुझान बढ़ रहा है।

यह भी पढ़ें :   पंजाब में बिजली संकट की मार : रोपड़ प्लांट की एक इकाई ठप, लहरां मुहब्बत की बंद यूनिट फिर चालू

ग्राम स्तर पर तैनात की गई नोडल अधिकारियों की टीमों सहित रैपिड रिस्पांस टीमों ने भी माना था कि जिले में 50 फीसदी से ज्यादा पराली जलाई गई है। पंजाब प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की ओर से जिले में सैटेलाइट से इस साल पराली जलाने के 262 मामले सामने आए हैं। इसी कारण मोहाली राज्य में चौथे स्थान पर पहुंच गया है। पठानकोट पिछले पांच साल से लगातार सबसे कम पराली जलाने वाला जिला बना हुआ है। मोहाली का पड़ोसी रोपड़ पिछले दो साल से जिले को पछाड़ रहा है।

यह भी पढ़ें :   पंजाब में बेकाबू हुआ कोरोना, कैप्टन अमरिंदर ने सभी के लिए मांगी वैक्सीन
यह भी पढ़ें :   जम्मू एयरबेस पर हुए ड्रोन हमले के बाद पीएम मोदी ने की बैठक में चर्चा

इस बार शहीद भगत सिंह नगर यानी नवांशहर जिला भी मोहाली को मात देकर अपनी स्थिति में सुधार करने में कामयाब रहा। इस साल पठानकोट में महज 11, शहीद भगत सिंह नगर में 192 और रोपड़ में 209 मामले दर्ज किए गए हैं। 2019 में मोहाली में पराली जलाने के 201 मामले दर्ज किए गए थे। जबकि पठानकोट में सिर्फ 4 और रोपड़ में 131 मामले आए थे।

2018 में भी पठानकोट पराली जलाने के 9 मामलों के साथ राज्य में अव्वल था, जबकि रोपड़ 82 मामलों के साथ दूसरे स्थान पर व मोहाली 144 मामलों के साथ तीसरे स्थान पर था। इससे पहले वर्ष 2017 में भी पठानकोट पराली जलाने के 13 मामलों के साथ राज्य में अव्वल रहा था, जबकि 168 मामलों के साथ मोहाली दूसरे स्थान पर था। वहीं वर्ष 2016 में मोहाली जिला 240 मामलों के साथ राज्य में दूसरे स्थान पर रहा था। पहला स्थान पठानकोट का था, जब वहां पराली जलाने के महज 28 मामले रिकार्ड किए गए थे।

यह भी पढ़ें :   CORONA संकट के बीच पाकिस्तान से आ रही मुसीबत से घुटेगा दिल्ली का दम !
यह भी पढ़ें :   कोरोना : टीकाकरण से पहले ज़रा इधर दें ध्यान, कहीं भारी ना पड़ जाए इन चीज़ों का सेवन

मोहाली का डेराबस्सी ब्लॉक 2017 से 2019 तक सबसे ज्यादा पराली जलाता रहा है। 2016 के दौरान जिले में सबसे ज्यादा पराली जलाने वाला खरड़ ब्लॉक 2017 और 2018 में सुधरा, लेकिन 2019 में फिर से खरड़ के किसानों ने पराली जलाने के मामले बढ़ा दिए।

Latest news

एसके म्यूजिक वर्क्स ने “छम्मो” नामक एक आइटम गीत का संगीत बम गिराया

बारिश की संगीतमय ध्वनि सभी का मनोरंजन करती है और यह मानसून;  एसके म्यूजिक वर्क्स ने "छम्मो" नामक एक आइटम गीत का संगीत बम...

मुख्यमंत्री की तरफ से भ्रष्टाचार के ख़िलाफ बड़ी कार्यवाही

भ्रष्टाचार को कतई बर्दाश्त न करने की रणनीति के अंतर्गत मुख्यमंत्री भगवंत मान के नेतृत्व वाली पंजाब सरकार ने अपने कार्यकाल के थोड़े समय...

मुख्यमंत्री ने कैनेडा से गतिविधियाँ चला रहे गैंगस्टरों पर नकेल कसने के लिए कैनेडा सरकार से माँगी मदद

पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान ने कैनेडा की धरती से अपनी गतिविधियाँ चला रहे गैंगस्टरों को पकडऩे के लिए कैनेडा सरकार से सहयोग की...

पंजाब सरकार ने वाशिंगटन डीसी के क्षेत्रीय अंग्रेज़ी भाषा कार्यालय के सहयोग से अंग्रेज़ी के अध्यापकों के लिए वर्कशॉप लगाई

मुख्यमंत्री भगवंत मान द्वारा राज्य के विद्यार्थियों को मानक शिक्षा प्रदान करने की प्रतिबद्धता के अंतर्गत वाशिंगटन डीसी के क्षेत्रीय अंग्रेज़ी भाषा कार्यालय (रेलो)...

Related news

यह भी पढ़ें :   पंजाब में बेकाबू हुआ कोरोना, कैप्टन अमरिंदर ने सभी के लिए मांगी वैक्सीन

एसके म्यूजिक वर्क्स ने “छम्मो” नामक एक आइटम गीत का संगीत बम गिराया

बारिश की संगीतमय ध्वनि सभी का मनोरंजन करती है और यह मानसून;  एसके म्यूजिक वर्क्स ने "छम्मो" नामक एक आइटम गीत का संगीत बम...

मुख्यमंत्री की तरफ से भ्रष्टाचार के ख़िलाफ बड़ी कार्यवाही

भ्रष्टाचार को कतई बर्दाश्त न करने की रणनीति के अंतर्गत मुख्यमंत्री भगवंत मान के नेतृत्व वाली पंजाब सरकार ने अपने कार्यकाल के थोड़े समय...

मुख्यमंत्री ने कैनेडा से गतिविधियाँ चला रहे गैंगस्टरों पर नकेल कसने के लिए कैनेडा सरकार से माँगी मदद

पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान ने कैनेडा की धरती से अपनी गतिविधियाँ चला रहे गैंगस्टरों को पकडऩे के लिए कैनेडा सरकार से सहयोग की...

पंजाब सरकार ने वाशिंगटन डीसी के क्षेत्रीय अंग्रेज़ी भाषा कार्यालय के सहयोग से अंग्रेज़ी के अध्यापकों के लिए वर्कशॉप लगाई

मुख्यमंत्री भगवंत मान द्वारा राज्य के विद्यार्थियों को मानक शिक्षा प्रदान करने की प्रतिबद्धता के अंतर्गत वाशिंगटन डीसी के क्षेत्रीय अंग्रेज़ी भाषा कार्यालय (रेलो)...